अंकुरित पौधो को देखकर प्रफुल्लित हुए कमिश्नर

अंकुरित पौधो को देखकर प्रफुल्लित हुए कमिश्नर

होशंगाबाद। नर्मदापुरम संभाग के कमिश्नर श्री उमाकांत उमराव ने सुदूर ग्रामीण क्षेत्र मे नर्मदा नदी के रायपेरियन जोन मे बीज अंकुरण का जायजा लेने के लिए बाबई विकासखंड के सूदूर में स्थित ग्राम आहारखेडा का भम्रण किया। कमिश्नर श्री उमराव ने गत 4 जून को वृहद स्तर पर नर्मदा परिवार व प्रशासनिक अमले के द्वारा लगाए गए बीजो से अंकुरित हुए पौधो का अवलोकन किया।
आहारखेडा मे नर्मदा नदी के रायपेरियन जोन 1 व 2 मे विभिन्न प्रजातियो के बीज जैसे गोखरू, बबूल, मखंडी, कंजी, बेर, अंग्रेजी इमली, धतुरा, अकऊवा, नागर मोथा, जंगली तुलसी, गुलमोहर, अर्जुन, चिरचिरिया, कबीट, महानीम, भटकचरिया, कठेरन, गौरखमुंडी आदि विभिन्न प्रकार के बीज लगाए गए थे। उन बीजो मे अंकुरण हुआ है और छोटे-छोटे पौधे निकल आए है। कमिश्नर श्री उमराव आहारखेडा के रायपेरियन जोन-1 एवं 2 मे हुए अंकुरित पौधो को देखकर अत्यधिक प्रफुल्लित हुए और अंकुरित पौधो को देखकर उन्होने इसकी देखरेख करने वाले नर्मदा परिवार के सदस्यो व प्रशासनिक अमले की भरपूर सराहना की।
कमिश्नर ने कहा कि नर्मदा परिवार के सदस्यों व प्रशासनिक अमले के सक्रिय सहयोग व अथक परिश्रम से ही बीजों मे पौधे अंकुरित हुए है और यह अभियान नर्मदा परिवार के सक्रिय सहयोग व प्रशासनिक अमले के कारण सफल हुआ है। उल्लेखनीय है कि गत 4 जून को रायपेरियन जोन मे बीजरोपण किया गया था जिसमे से अधिकांश में पौधे अंकुरित हो चुके है। कमिश्नर ने नर्मदा परिवार व अधिकारी व कर्मचारियों को निर्देशित किया कि खाली जगहों पर अक्टूंबर माह मे बीज रोपित किए जायेंगे उन्होने कट जामुन व नीम के बीज पर्याप्त मात्रा मे लगाने के निर्देश दिए। बताया गया कि आहारखेडा की मिट्टी मे पर्याप्त पोषक तत्व है। वह उपजाऊ है इस कारण आसपास के पौधे भी संरक्षित हो रहे है।
कमिश्नर ने कहा कि उन्होंने जितना सोचा था उससे बेहतर परिणाम यहा देखने को मिला। उल्लेखनीय है कि आहारखेडा मे हर 5 व 10 मीटर तक के एरिया मे बीजो मे पर्याप्त अंकुरण हुआ है। कमिश्नर ने कहा कि बीजरोपण का कार्यक्रम पर्याप्त गंभीरता से किया गया है। जिसका सुखद परिणाम यहा देखने को मिल रहा है।
तहसीलदार श्रीमती शिवानी पाण्डे ने बताया कि बीजरोपण एवं उसके पश्चात पौधो की देखभाल करने में बच्चो ने भी अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। पौधो मे पानी डालने का कार्य बच्चे बहुत ही उत्साह से करते है। भ्रमण के दौरान कमिश्नर नर्मदा परिवार के सदस्यो से भी मिले। नर्मदा परिवार के सदस्यो ने कमिश्नर को बताया कि यह उनका सौभाग्य है कि उन्होने नर्मदा नदी के किनारे जन्म लिया है। नर्मदा नदी सतत जीवनदायनी नदी है। वे हमसे कुछ लेती नही अपितु बदले मे हमे बहुत कुछ देती है। कमिश्नर ने नर्मदा परिवार के सदस्यो को बताया कि 6 अगस्त को प्रकृति रक्षा बंधन का कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा जिसमे सभी व्यक्ति वृक्षो को रक्षा सूत्र बांधेगे और आजीवन वृक्षो की देखभाल व रक्षा करने का संकल्प लेगे। कमिश्नर ने सभी लोगो से कहा कि वे प्रकृति रक्षा बंधन कार्यक्रम मे सक्रिय भागीदारी निभाएं।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW