अफसर घूमे बाजार में, लिया व्यवस्थाओं का जायजा

बाजार में निरीक्षण पर निकला राजस्व, पुलिस और नपा का अमला
इटारसी। पुलिस और प्रशासन ने शहर में अतिक्रमण और यातायात व्यवस्था का जायजा लिया। सोमवार की शाम को एसडीएम हरेन्द्र नारायण, एसडीओपी उमेश द्विवेदी, टीआई राघवेन्द्र सिंह चौहान और सीएमओ हरिओम वर्मा ने नगर पालिका अमला, ट्रैफिक पुलिस और अन्य स्टाफ के साथ बाजार की व्यवस्था का जायजा लिया।
महीनों बाद अतिक्रमण और यातायात व्यवस्था में सुधार के लिए निकले अधिकारियों के दल ने पहले दिन केवल समझाईश तक अभियान को सीमित रखा है। अतिक्रमणकारियों को समझाया और कुछ जगह देखकर आगामी समय में वहां व्यवस्थाएं बनाने की संभावनाएं तलाश की हैं। आगामी समय में कोई परिणाम निकलेगा, ऐसी उम्मीदें की जा रही हैं।


वर्षों बाद दिखा विभागों में तालमेल
कार्यभार संभालने के महीनों बाद पुलिस, राजस्व विभाग और नगर पालिका में तालमेल जमाते हुए एसडीएम हरेन्द्र नारायण ने शहर की यातायात व्यवस्था और अतिक्रमण की स्थिति का जायजा लिया। जयस्तंभ के पास से अधिकारियों और कर्मचारियों के दल ने बाजार की स्थिति का जायजा लेना शुरु किया और हद से बाहर आए दुकानदारों, फल-सब्जियों के ठेले वालों को समझाईश दी तो कुछ ऐसे अतिक्रमणकारियों को सख्त चेतावनी भी दी जिन्हें वर्षों से समझाईश के बाद वे अपनी हरकतें नहीं सुधार रहे हैं। जयस्तंभ चौक से पुराना फल बाजार और भारत टाकीज रोड पहुंचे तो यहां शहर के बेफिक्र अतिक्रमणकारी कमल जैन को अधिकारियों ने डांट लगायी और अपनी दुकान हद के भीतर करने को कहा। यही एक ऐसा दुकानदार है जिस पर बड़ा जुर्माना लगने के बावजूद यह सड़क पर दुकान लगाता है और हर बार की मुहिम में सबसे अधिक डांट पडऩे के बावजूद अपनी हरकतों में सुधार नहीं लाता है। यहां से अमला शिवा काम्प्लेक्स और राजीव काम्पलेक्स के बीच गली में पहुंचा जहां अव्यवस्था देखकर सुधार करने की जरूरत महसूस की। फल सब्जी मंडी, नोवल्टी आइसक्रीम फैक्ट्री के पास से निर्माणाधीन पुलिस कालोनी और वापस आकर पूड़ी लाइन और चौपाटी का निरीक्षण किया।

विधायक ने पत्र दिया था, कलेक्टर ने निर्देश
एसडीएम हरेन्द्र नारायण ने कहा कि शिकायतें मिल रहीं थी कि दुकानें आगे बढऩे से अव्यवस्था हो रहीं थी। विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा का पत्र भी मिला था। लेकिन लोकसभा चुनाव के कारण उस वक्त काम नहीं हो सका। कलेक्टर का भी सख्त निर्देश है कि इटारसी की व्यवस्था में सुधार करें। उन्होंने कहा कि पार्किंग के लिए रेस्ट हाउस के साइड में जो जगह पीडब्ल्यूडी ने दी थी, वहां पार्किंग बना दी गई है। इसके लिए तत्कालीन एक्जीक्यूटिव इंजीनियर को कारण बताओ नोटिस भी मिला था। पता चला है कि युवाओं को रोजगार देने के उद्देश्य से नगर पालिका ने वहां चौपाटी का निर्माण कर दिया है। हमने देखा है कि वहां महज आठ-दस लोग ही ठेले लगा रहे हैं। इससे नपा का उद्देश्य तो पूरा नहीं होता है बल्कि वहां यदि पार्किंग की व्यवस्था कर दी गई तो दो-ढाई हजार वाहन अवश्य खड़े किये जा सकेंगे। रही बात इन लोगों की तो इनके लिए कहीं अन्य जगह पर स्थान देखकर उनको शिफ्ट कर देंगे। एसडीएम ने कहा कि बाजार में कुछ दुकानों में ऊपर भी कब्जे की शिकायत मिली है, हमने नगर पालिका सीएमओ को कहा है कि वे इसकी जांच करायें और इसके बाद हमें और अपने संचालनालय में रिपोर्ट पेश करें। इसके बाद जैसा भी पाया जाएगा उसके अनुसार ही कार्रवाई की जाएगी।

इनका कहना है…!
आज हमने दुकानों से बाहर सड़क पर सामान रखने वालों को समझाईश दी है कि उनका खुद का शहर है, उनको सोचना है। व्यवस्था बनाने के लिए निकले थे। आगामी समय में व्यवस्था की जाएगी। नपा और दुकानदारों की मिलीभगत जैसी बातें कहना आसान है। बिना जांच के कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। जांच के बाद जो होगा, वैसी कार्रवाई होगी।
हरेन्द्र नारायण, एसडीएम

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW