अरिणमंथन द्वारा अग्नि प्राकट्य एवं श्री शतचंडी महायज्ञ प्रारंभ

अरिणमंथन द्वारा अग्नि प्राकट्य एवं श्री शतचंडी महायज्ञ प्रारंभ

सिर पर कलश लेकर निकली मातृशक्ति, किया स्वागत
इटारसी। श्री बूढ़ी माता मंदिर मालवीयगंज में आज से कलशयात्रा के साथ श्री शतचंडी महायज्ञ का शुभ आरंभ हो गया। श्री माता महाकाली दरबार से मातृशक्ति सिर पर कलश लेकर करीब तीन किलोमीटर का स$फर तय करके मंदिर परिसर पहुंची। कलश यात्रा और शोभायात्रा में मप्र विधानसभा के अध्यक्ष डॉ सीतासरन शर्मा भी शामिल हुए। कलश यात्रा गांधीनगर, श्री नवगृह मंदिर, मालवीयगंज होकर श्री बूढ़ी माता मंदिर पहुंची। कलश यात्रा का जगह-जगह श्रद्धालुओं ने स्वागत किया। कलश यात्रा में श्री शतचंडी महायज्ञ के मुख्य यजमान पूर्व नपाध्यक्ष पंकज चौरे और उनकी पत्नी भी शामिल हुईं। कलश यात्रा में नपा सभापति जसबीर सिंघ छाबड़ा, मंदिर समिति के दीपक अठौत्रा, देवेन्द्र पटेल, जगदीश मालवीय सहित अनेक भक्त शामिल हुए।
it5217 (4)श्री शतचंडी महायज्ञ के दौरान पंचांग पूजन, ब्राह्मण वरण, मंडपस्थदेवता पूजन, श्रीरामचरित मानस के सुंदरकांड पाठ व श्रीमद् देवी भागवत पाठ तथा दुर्गा पाठ चलेंगे। अगले दिन 6 से 10 फरवरी तक प्रतिदिन प्रात: 8 से दोपहर 12 बजे तथा दोपहर 2:30 से शाम 5:30 बजे तक पूजन एवं दुर्गा सप्तशती पाठ एवं रूद्राभिषेक यज्ञ, आरती एवं प्रसाद वितरण होगा। 10 फरवरी शुक्रवार को दोपहर 2 बजे से पूर्णाहुति, पूजन, आरती, प्रसाद वितरण, ब्राह्मण व कन्याभोज, महाप्रसाद वितरण होगा। 6 फरवरी से 9 फरवरी तक प्रतिदिन दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक प्रवचन चलेंगे जिसमें प्रवचनकर्ता पं। चंद्रकांत भार्गव कृष्ण भक्त द्वारा प्रवचन दिए जाएंगे।
मेला में बच्चों के लिए है बहुत कुछ
श्री बूढ़ी माता मंदिर में शतचंडी महायज्ञ के साथ ही लगने वाले मेले में बच्चों और महिलाओं के लिए काफी कुछ रहेगा। बच्चों के लिए तरह-तरह के झूले और अन्य चीजें हैं तो एक खास बात यह है कि इस बार मेला दस दिन चलेगा। मंदिर समिति ने मंदिर के पीछे इस बार मेले का क्षेत्र बढ़ाया है और इसकी अवधि भी पिछले सालों की तुलना में करीब पांच दिन और बढ़ा दी है। इसके अलावा मंदिर परिसर में भी श्रद्धालुओं के लिए काफी व्यवस्थाएं की गई हैं ताकि दर्शन करने आने वालों को यहां किसी प्रकार की परेशानी न हो। इस वर्ष मंदिर समिति की बेवसाइट भी बन चुकी है। www.budimatamandir.org मंदिर और श्री शतचंडी महायज्ञ के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: