आपदाकाल में खाना खिला रहे हैं सेवादार

आपदाकाल में खाना खिला रहे हैं सेवादार

इटारसी। कोरोना वायरस का चक्र तोडऩे के लिए देश में लॉकडाउन है। ऐसे में शहर के गरीब, मजदूर वर्ग के घर कोई भूखा न सोये, इसकी फिक्र में शहर के अनेक सेवादार भोजन, राशन आदि पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों से वीडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से बातचीत में जो तारीफ की है, उससे सेवादारों के हौसलों को और बल मिला है। शहर में भोजन तैयार कर वितरण कर रहे भोजन सहायता ग्रुप को समाजसेवियों की लगातार मदद मिल रही है। आज एलकेजी ज्वेलर्स के मांगीलाल गोठी की ओर से दिनेश गोठी ने जरूरतमंद लोगों के भोजन व्यवस्था हेतू 21000/ की राशि प्रदान की। ग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन ने 51 सौ रुपए एवं सिंधी समाज ने पांच पीपा तेल इटारसी ऑयल मिल से चार पीपा तेल एवं चार कट्टी आटे की बेसहारा एवं मजदूरों की भोजन व्यवस्था के लिए भोजन सहायता समूह को प्रदान किए हैं।
बता दें कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों से बातचीत में कहा है कि सामाजिक संगठनों का दृष्टिकोण मानवीय होता है, पहुंच ज्यादा होती है और सेवाभाव के कारण लोगों का इन पर विश्वास होता है। इन विशेषताओं के कारण आपदा की इस घड़ी में ये संगठन गरीबों की बुनियादी जरूरतों को पूरा करने में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। इसे समाचार पत्रों ने प्रमुखता से प्रकाशित किया है। इसके बाद सेवादारों ने और उत्साह से अपना काम जारी रखा।
उल्लेखनीय है कि प्रशासन ने सोमवार से इटारसी में निजी तौर पर किसी भी तरह का दान लेने, एकत्र करने या भोजन बांटने पर रोक लगा दी है। इसके बाद से ये सेवादार मायूस थे और कार्रवाई को लेकर कुछ सेवादार भयभीत भी थे। हालांकि प्रशासन के इस आदेश को लेकर उन स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक और राजनीतिक लोगों में नाराजी थी थी जो अपनी सामथ्र्य और स्तर पर शहर में लोगों की सहायता करने में जुटे हुए थे, वे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर इसको जाहिर भी कर रहे हैं, इनका मानना है कि स्थानीय प्रशासन की यह कार्रवाई प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की मंशा और आदेशों के विपरीत है।
इस मामले में जिला पत्रकार संघ के अध्यक्ष और समाजसेवी प्रमोद पगारे ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी माना है कि आपदा की इस घड़ी में स्वयंसेवी संगठन और लोग गरीबों की मदद कर सकते हैं पर जिले और इटारसी का प्रशासन स्वयंसेवी संगठनों और सामाजिक संगठन पर रोक लगा रहा है यह उचित नहीं है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को इस पूरे मामले का तत्काल संज्ञान लेना चाहिए।

आज भी खाने के पैकेट बांटे
मुस्लिम खत्री पंचायत की तरफ से नगर पालिका इटारसी को खाने के 200 पैकेट दोपहर में जरूरतमंदों के लिए प्रदान किये गये। नगर पालिका ने इन पैकेट्स को 12 बंगला बैल बाजार एवं खेड़ा लोहार मोहल्ले में बांटे। मुस्लिम खत्री पंचायत ने बताया सुबह एक वक्त का खाना जब तक लॉक डाउन लागू रहेगा तब तक बांटा जाएगा। नगर पालिका के एआरआई और भोजन वितरण व्यवस्था के नोडल अधिकारी विकास बाघमारे ने बताया कि संगठनों की मदद से आज भी पर्याप्त मात्रा में भोजन उपलब्ध रहा। भोजन वितरण के लिए न्यास कॉलोनी के रामफल सिंह ठाकुर ने अपना चार पहिया वाहन उपलब्ध कराया। उन्होंने सभी सहयोगियों को धन्यवाद दिया। पशुपतिनाथ धाम मंदिर समिति और लक्ष्य नशा मुक्ति केन्द्र ने भी हाईवे पर सीपीई गेट के सामने नागपुर से चलकर राजस्थान को जाने वाले यात्रियों को भोजन सामग्री एवं पानी के पाउच, माल गोदाम एवं वार्ड नंबर 9 में भोजन के पैकेट वितरण किए।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: