एक लाख लोग करेंगे 120 किमी में पौधरोपण

एक लाख लोग करेंगे 120 किमी में पौधरोपण

कमिश्नर ने सभी से नर्मदा के तटवर्ती क्षेत्रों में पौधरोपण करने का आव्हान किया
होशंगाबाद । नर्मदापुरम् संभाग के कमिश्नर उमाकांत उमराव ने कहा कि हम मोक्षदायनी व जीवन दायनी नदी होने के कारण मां नर्मदा की पूजा करते हैं और मां नर्मदा को जीवन दायिनी इसलिए कहा जाता है क्योंकि नर्मदा के किनारे ढेरों ऐसी जड़ी बूटी थी जो रोगों को हरती थी। लोगों को युवा बनाए रखती थी, नर्मदा के किनारे ऐसी जड़ी बूटी, वनस्पती व पौधे पाए जाते थे जो संजीवनी का कार्य करते थे। नर्मदा के जल में आक्सीजन की मात्रा ज्यादा होने से यह जल औषधि गुणवत्ता वाला है, जो जीवन के लिए बेहतर है। उक्त बात कमिश्नर उमराव ने मंगलवार को होमसाइंस कालेल में जल वन नर्मदा तट क्षेत्र सम्मेलन में कही। कमिश्नर ने कहा कि हमें मां नर्मदा के इको सिस्टम को पुनर्जीवित करना है। हम नर्मदा नदी के पुराने स्वरूप एवं वैभव को लोटाने में सफल हए तो हमारा और आपका जीवन धन्य हो जाएगा। श्री उमराव ने बताया कि 2 जुलाई को होशंगाबाद जिले में 1 लाख व्यक्ति 120 किमी क्षेत्र में स्वेच्छा से पौधरोपण करेंगे। पौधरोपण से पूर्व छोटे पैमाने पर झाड़, फानुस, झंकाड़, घास, बेल पत्तियां, पौधों का रोपण कार्य शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने सभी से आव्हान किया कि वे पौधरोपण करने में अपनी महती भूमिका अदा करें। स्वयंसेवी डॉ। बीएम मालवीय ने बताया कि सतपुड़ा-विंध्याचल के बीच का क्षेत्र रिपेरियन जोन है, वहां का पानी नर्मदा में आता है। रिपेयरियन जोन में पौधरोपण करने से जमीन का कटाव रुकेगा। साहित्यिकार अशोक जमनानी ने कहा कि वास्तव में मां नर्मदा को बचाने की मुहिम हम सबको बचाने की मुहिम है। समाजसेवी भगवत शर्मा ने कहा कि उनका संघ 2006 से ही पर्यावरण बचाने की दिशा में कार्य कर रहा है।
उत्कृष्ट कार्य पर पुरस्कार
जल वन नर्मदा सम्मेलन में कहा कि जो व्यक्ति, संस्था, समिति या स्वैच्छिक संगठन नर्मदा नदी के तटवर्ती क्षेत्रों में पौधरोपण व अन्य वनस्पति, घास आदि को लगाने में अपना बेहतरीन योगदान देगा ऐसे 10 लोगों को पुरस्कार भी दिए जाएंगे। डॉ। मालवीय ने बताया कि प्रथम आने वाली संस्था, व्यक्ति समिति या स्वैच्छिक संगठनों को वे 51 हजार रुपए का नगद पुरस्कार प्रदान करेंगे, शेष 9 लोगों को भी विभिन्न श्रेणियों के पुरस्कार दिए जाएंगे। नर्मदा नदी के किनारे रिपेयरियन जोन मे पौधे लगाने औषधियुक्त पौधे चिन्हित करने, स्थान चिन्हित करने, पौधे व बीज एकत्र करने मंगलवार से मंगलवार तक 7 दिन विशेष अभियान चलेगा।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW