कमोद दुबे की सेवानिवृत्ति पर दी विदाई

इटारसी। शिक्षक कल्याण संगठन एवं शासकीय प्राथमिक शाला भीलाखेड़ी परिवार के संयुक्त तत्वावधान में शिक्षिका श्री कमोद दुबे की सेवानिवृत्ति का कार्यक्रम भावपूर्ण मात्रा में संपन्न हुआ। कार्यक्रम में अतिथि के रूप में जितेंद्र ओझा, डॉ. केएस उप्पल, अरुणा पूरनकर, गीता मिश्रा की उपस्थिति एवं अध्यक्षता लक्ष्मण सिंह सोलंकी की रही।
शिक्षक कल्याण संगठन परिवार की ओर से कमोद दुबे को शाल श्रीफल स्मृति चिन्ह भेंट कर एवं अभिनन्दन पत्र सौंप कर सम्मानित किया। शाला परिवार ने भी उपहार सामग्री भेंटकर स्वागत किया। स्वागत भाषण सुषमा शर्मा अभिनंदन पत्र वाचन रामचरण नामदेव प्रतिवेदन वाचन सुरेश कुमार चिमानिया आभार सत्येन्द्र तिवारी ने एवं संचालन राजकुमार दुबे ने किया।
डॉ केएस उप्पल नेे अपने उद्बोधन में कहा कि शिक्षक सेवानिवृत्त नहीं होता। शब्दकोश में सभी सरकारी कर्मचारी पदों के साथ सेवानिवृत्ति के बाद भूतपूर्व शब्द लगता है लेकिन शिक्षक के साथ भूतपूर्व शब्द शब्दकोश में भी नहीं मिलता। हाई स्कूल की प्राचार्य अरुणा पूरनकर ने कमोद दुबे की अनुशासित जीवन एवं सेवा के प्रति समर्पण भाव की सराहना की। जितेंद्र ओझा कहा कि कमोद दुबे की सेवानिवृत्ति पर विप्र समाज को एक कर्मठ कार्यकर्ता मिल रही हैं जिनके मार्गदर्शन में समाज के बच्चों का भविष्य उज्ज्वल होगा।
शिक्षक राम आशीष पांडे ने सुमधुर शब्दों में विदाई का गीत गाकर वातावरण को भावपूर्ण में बना दिया। कार्यक्रम को सफल बनाने में सुषमा शर्मा, बबीता सोलंकी, उषा कश्यप, सरला पांडेय, सुनील दुबे, सुरेन्द्र तोमर, सदन मालवीय, अंबरीश दुबे, अखिलेश दुबे, जगदेव मैडम, मसीह मैडम की सराहनीय भूमिका रही।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW