किताबें अवलोकन और बिक्री के लिए उपलब्ध रहेंगी।

इटारसी। संगीत, नृत्य, गायन, नाटक आदि की संस्कृति पोषक विविध प्रस्तुतियों के इस कार्यक्रम में पुस्तक संस्कृति को बढ़ावा देने के उद्देश्य से पुस्तक प्रदर्शनी को भी जोड़ा है। पुस्तकें हमारी संस्कृति का अभिन्न हिस्सा हैं वे हमें एक बड़ी दुनिया और अनुभव से जोड़ती हैं। कोलकाता की प्रतिष्ठित प्रकाशन संस्था प्रतिश्रुति प्रकाशन एवं संगीत, नाटक अकादमी नई दिल्ली के स्टॉल पर साहित्य कला संस्कृति की विविधवर्णी पुस्तकें आपके अवलोकन और खरीद हेतु उपलब्ध होंगी। प्रतिदिन कार्यक्रम के 1 घंटे पूर्व बुक स्टॉल खुल जाएंगे। होशंगाबाद की माटी के सगे, नर्मदा पुत्र कवि भवानी प्रसाद मिश्र की ये पंक्तियां प्रस्तुत हैं, कुछ लिख कर सो कुछ पढ़ कर सो/ तू जिस जगह जागा सवेरे उस जगह से बढ़कर सो। संगीत नाटक अकादमी और नगर पालिका परिषद इटारसी ने कला और संस्कृति प्रेमियों से इस कार्यक्रम में शामिल होने का अनुरोध किया है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: