खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने की कई दुकानों में छापामारी

त्योहारों को देखते हुए मिठाई और मावा के सेंपल लिए
इटारसी। खाद्य एवं औषधि प्रशासन मिलावटखोरों के खिलाफ एक्शन में है। पिछले कई दिनों से लगातार जिलेभर में छापामार कार्रवाई कर मिलावट की चीजें, नकली खाद्य पदार्थ व दूषित खाद्य वस्तुओं की जांच में विभाग ने मुस्तैदी दिखाई है तो सोमवार को ईद के अवकाश के बावजूद त्यौहारी सीजन को देखते हुए विभाग की टीम ने राजस्व विभाग की टीम के साथ शहर के आधा दर्जन से अधिक प्रतिष्ठानों पर जाकर मावा, मिठाई आदि के सेंपल लिये हैं।
त्योहारों का मौसम आता है तो ढेरों तरह की मिठाई बनना शुरू हो जाती है। अगस्त से अक्टूबर-नवंबर तक त्योहारों का मौसम ही रहता है। त्योहारों के इस चीजन में मावा की डिमांड भी अधिक रहती है, और अधिक मांग में पूर्ति के लिए कुछ लोग मिलावट करके फायदा उठाते हैं। ऐसे में खाद्य एवं औषधि प्रशासन की टीम को सतर्कता से काम करना होता है। पिछले कई दिनों से यह टीम लगातार जिलेभर में छापामार कार्रवाई कर रही है। सोमवार को ईद का अवकाश होने के बावजूद खाद्य एवं औषधि प्रशासन द्वारा मिठाइयों की दुकान पर मावे और मिठाइयों के जांच के लिए सैम्पल लिये। कार्रवाही के दौरान खाद्य एवं औषधि प्रशासन के जिला अधिकारी शिवराज पावक, नायब तहसीलदार पूनम साहू, राजस्व निरीक्षक राजकुमार पटेल, तुषार मौर्य, पटवारी राजेश गहरवार सहित राजस्व अमला मौजूद था। टीम ने जयस्तंभ चौक के आसपास गोपी स्वीट्स, अग्रवाल स्वीट्स, चिकमंगलूर चौराह के पास विमल स्वीट्स, कलाकंद स्वीट्स से मिठाई एवं मावे के सेंपल लिये। खाद्य सुरक्षा अधिकारी शिवराज पावक ने बताया कि मिठाई दुकानों से सेंपल लिये हैं। स्वतंत्रता दिवस पर बनने वाले लड्डुओं पर भी नजर है। नमकीन फैक्ट्रियों पर कार्रवाई संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि हमारी कार्रवाई चल रही है।
ऐसे करें मावा की पहचान
आपको त्योहारों पर मिठाई बनाने के लिए मावा लेना है लेकिन, ठीक ढंग से पहचान नहीं कर पाते हंै, जो कि बाद में आपकी हेल्थ के लिए नुकसानदायक साबित होते हंै। साथ ही आपके अनुसार रेसिपी भी न बन पाती है। अगर आप भी मार्केट से मावा लेने जा रहे हैं, लेकिन आपको यह नहीं पता कि कैसे पहचाने कि वह असली है कि नकली। हम अपनी खबर में बता रहे हैं कि कैसे पहचाने असली और नकली मावा को। जब आप मावा ले रहे है। जो थोड़ा सा मावा लेकर अपने अंगूठे के नाखून पर रगड़ें। अगर वह असली होगा तो घी कि महक काफी देर तक आएगी। आप असली मावा की पहचान उसे टेस्ट कर भी कर सकते हैं। इसके लिए थोड़ा सा मावा लेकर चखें। अगर इसका स्वाद कसैला है तो वह नकली है। थोड़ा सा मावा हाथ में लें और इसकी गोली बनाएं। अगर ये फटने लगें तो समझ लीजिए कि ये नकली है। इसके अलावा आप थोड़ा सा मावा हाथ में लें अगर ये चिपचिपा है, तो समझ लीजिए कि ये नकली है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW