गणेश उत्सव में फूहड़ता बर्दाश्त नहीं होगी

धार्मिक नेताओं ने दी राय, प्रशासन ने भी गाइड लाइन बतायी

धार्मिक नेताओं ने दी राय, प्रशासन ने भी गाइड लाइन बतायी
इटारसी। शुक्रवार से प्रारंभ हो रहे गणेश उत्सव में फूहड़ता के लिए कोई स्थान नहीं रहेगा, यदि किसी पंडाल में फूहड़ गीत, अश्ली्लता, जुआ खेल जैसी गतिविधि दिखी तो हिन्दू संगठनों के अलावा प्रशासन भी कार्रवाई का चाबुक चलाएगा। उत्सव के दौरान धार्मिक माहौल, परंपराएं जो पूर्व से निभाई जाती रही हैं, उनका ही सख्ती से पालन होगा। पुलिस उत्सव के दौरान ही एक बार उत्सव समितियों की एक बैठक लेगी जिसमें सुरक्षा से जुड़े मसलों पर समिति सदस्यों को ताकीद किया जाएगा।
ये निर्देश हैं, शांति समिति की बैठक के, जो आज पुलिस स्टेशन परिसर में दिए गए। बैठक में हिन्दु-मुस्लिम समुदाय के आगामी एक पखवाड़े में आने वाले पर्वों पर शांति व्यवस्था पर गहन चर्चा करके निर्णय लिए। बैठक में एसडीएम अभिषेक गेहलोत, एसडीओपी अनिल शर्मा, सीएमओ सुरेश दुबे, टीआई रामस्नेह चौहान, बिजली विभाग से एई डेलन पटेल, जेई वैभव मिश्रा के अलावा धर्माचार्य पं. प्रभात शर्मा, दीपक अठौत्रा, नगर कांग्रेस से पंकज राठौर, विश्व हिन्दू परिषद से गोपाल सोनी, जसबीर छाबड़ा, संदेश पुरोहित, आरिफ भाई, जहीर अली, शिवकिशोर रावत, जयकिशोर चौधरी, राकेश् ाजाधव सहित अनेक सदस्य मौजूद थे।

सफाई और विसर्जन व्यवस्था नपा के जिम्मे
गणेश स्थापना पंडाल और विसर्जन स्थल पर सफाई की व्यवस्था नगर पालिका के जिम्मे रहेगी। सीएमओ सुरेश दुबे ने बैठक में आश्वस्त किया है कि समय-समय पर पंडाल के आसपास सफाई की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा मेहरागांव नदी पर विसर्जन के लिए स्टापडेम बनाने की तैयारी विसर्जन से काफी पहले की जाएगी ताकि वहां पर्याप्त मात्रा में पानी एकत्र हो सके। नगर पालिका बड़ी और छोटी मूर्तियों के लिए विसर्जन का पर्याप्त इंतजाम करेगी। विसर्जन स्थल पर पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था की जाएगी।

बिजली कनेक्शन 15 सौ रुपए में
शांति समिति की बैठक में बिजली विभाग से उपस्थित हुए जेई वैभव मिश्रा ने बताया कि कंपनी ने मूर्ति पंडाल के लिए बिजली कनेक्शन की दरें तय कर दी हैं। उन्होंने बताया कि बड़ी मूर्तियों के लिए 25 सौ और छोटी मूर्तियों के लिए 15 सौ की दर तय की है। हालांकि बाद में समिति सदस्यों के आग्रह पर इसमें उन्होंने संशोधन करना स्वीकार किया तथा कहा कि कम से कम दर पंद्रह सौ रहेगी और बड़ी मूर्तियों के लिए इससे थोड़ी अधिक राशि जमा करायी जाएगी। उन्होंने कहा कि कम से कम किया जाएगा।

तीन स्तर पर सुरक्षा व्यवस्था
अनुविभागीय अधिकारी पुलिस अनिल शर्मा ने कहा कि त्यौहार के दौरान तीन स्तर की सुरक्षा व्यवस्था रहेगी। उत्सव समिति के सदस्यों को भी सुरक्षा में लगाया जाएगा और उनको एक आरक्षक के बराबर अधिकार रहेंगे। उन्होंने कहा कि पंडाल में अग्नि शमन यंत्र रखे जाएं ताकि ऐसी किसी घटना से निबटा जा सके। शांति व्यवस्था के लिए मोबाइल वेन चलेंगी जिसमें वे स्वयं, टीआई, एसडीएम शहर में घूमकर शांति व्यवस्था का जायजा लेंगे। ट्रैफिक व्यवस्था पर नजरें रहेंगी, मनचलों पर सख्ती की जाएगी।

समय से करें विसर्जन
अनुविभागीय दंडाधिकारी अभिषेक गेहलोत ने कहा कि नियम के अनुसार अनंत चतुर्दशी के दिन गणेश प्रतिमाओ का विसर्जन उत्सव समितियां तय करें। ऐसी किसी भी समिति को कोई छूट प्रदान नहीं की जाएगी जो इस उत्सव के बाद विसर्जन करें। यदि कोई अनंत चतुर्दशी के बाद विसर्जन करता है तो उसके खिलाफ नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बैठक में एक्ट की जानकारी देते हुए उत्सव समितियों से आग्रह किया है कि वे सख्ती से इन निर्देशों का पालन करें और अप्रिय स्थिति से बचें।

बैठक में पार्षद यज्ञदत्त गौर ने एक ही दिन विसर्जन करने, गोपाल सोनी ने अश£ील गीतों से बचने, राकेश जाधव ने उत्सव के दौरान बिजली विभाग से मेंटेनेंस न करने पर अपने सुझाव रखे। टीआई ने गणेश उत्सव समितियों की अलग से बैठक लेने को कहा साथ ही यातायात की दृष्टि से रोड को पूरी तरह से घेरकर पंडाल नहीं बनाने का आग्रह समितियों से किया।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW