चालीस दिन के व्रत पूर्ण, भंडारा, भजन-पूजन हुए

इटारसी। पूज्य पंचायत सिंधी समाज के तत्वावधान में पिछले चालीस दिनों से चल रहे भगवान झूलेलाल चालीहा व्रत महोत्सव का आज समापन हो गया। रविवार को पल्लव आरती, भंडारा एवं बहराणा साहब की शोभायात्रा निकाली।
सिंधी समाज ने भगवान झूलेलाल की उपासना का चालीस दिवसीय पर्व का रविवार को समापन हो गया। समापन दिवस की बेला में प्रात:काल से ही सिंधी कालोनी स्थित श्री झूलेलाल मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना का दौर शुरु हो गया था। इसके अलावा संत कंवरराम सिंधु भवन में भंडारा आयोजित किया। मंदिर में बहराणा साहब की पूजा, पल्लव आरती सिंधी समाज के श्रद्धालुओं ने सामूहिक रूप से की। सिंधी समाज के अलावा शहर के भी अनेक गणमान्य नागरिक भंडारा में भोजन प्रसादी लेने पहुंचे थे। शाम छह बजे बहराणा साहब की शोभायात्रा निकाली गयी। यह शोभायात्रा श्री झूलेलाल मंदिर से प्रारंभ हुई जिसमें समाज की महिलाओं और पुरुषों ने भाग लिया। महिलाओं ने बहराणा साहब के 51 पावन कलश सिर पर धारण किये थे। आगे बैंड दल और शहनाई वादन के साथ सिंधी समाज के युवक-युवतियां नृत्य कर रहे थे।
शोभायात्रा में समाज के प्रत्येक सिंधी परिवार के लोग शामिल हुए। यात्रा नगर पालिका कार्यालय के सामने से स्टेट बैंक चौराह होते हुए गली नंबर एक में स्थित मां शेरावाली दरबार पहुंचकर संपन्न हुई। यहां से समाज के युवा पावन नर्मदा में बहराणा साहब के विसर्जन के लिए होशंगाबाद पहुंचे। ट्रैफिक पुलिस ने शोभायात्रा में ट्रैफिक व्यवस्था संभाली। भगवान झूलेलाल महोत्सव के अंतर्गत श्रीकृष्ण जन्म अष्टमी के पावन भगवान झूलेलाल मंदिर में विशेष आरती हुई जिसमें पूरी कालोनी के श्रद्धालु शामिल हुए। आरती के साथ ही बाहर से आए भजन गायकों ने भजनों की प्रस्तुति दी।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW