जिले को सूखाग्रस्त घोषित करने की मांग

किसान कांग्रेस ने दिया ज्ञापन

किसान कांग्रेस ने दिया ज्ञापन
इटारसी। प्रदेश शासन ने हाल ही में प्रदेश के सूखाग्रस्त 127 ब्लाक की जो सूची जारी की है, उसमें होशंगाबाद की किसी भी तहसील या ब्लाक का नाम नहीं है, जबकि पूरा जिला अल्प वर्षा के कारण सूखा घोषित होना था, इस जिले को भी सूखाग्रस्त घोषि किया जाए।
यह मांग आज जिला किसान कांग्रेस होशंगाबाद ने राज्यपाल के नाम तहसीलदार को दिए ज्ञापन में की है। किसान कांग्रेस के जिलाध्यक्ष विजय बाबू चौधरी के नेतृत्व में तहसील दफ्तर पहुंचे कांग्रेसियों ने पहले सरकार की नीतियों के खिलाफ नारेबाजी की। तहसीलदार ऋषि मौर्य को ज्ञापन सौंपा। अध्यक्ष बाबू चौधरी ने टीकमगढ़ में सूखा घोषित कराने की मांग लेकर किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन पर पुलिस की कार्रवाई का विरोध करते हुए कहा कि किसानों पर लाठी चार्ज, अश्रुगैस के गोले फैकने में कई किसान घायल हो गए हैं। जिन किसानों को गिरफ्तार किया था, उन्हें बंदीगृह में कपड़े उतरवाकर अर्धनग्न हालत में रखा जो मानव अधिकार का उल्लंघन है। इस मामले में दोषी अधिकारियों को पदमुक्त कर किसानों की मांग पूर्ण की जाए।

जिला सूखाग्रस्त घोषित हो
किसान कांग्रेस ने सरकार से निवेदन किया है कि होशंगाबाद जिले को भी सूखाग्रस्त घोषित किया जाना चाहिए। पिछले कई दिनों से इस तरह की मांग सामने आने के बावजूद सरकार ने हाल ही में जो 127 विकासखंड की सूची जारी की है उसमं जिले के एक भी विकासखंड को शामिल नहीं किया है जबकि जिला अल्प वर्षा के कारण सूखा घोषित होना था। अत: जिले को सूखाग्रस्त घोषित किया जाए। किसानों ने कहा कि सोयाबीन और उड़द की फसल पूर्णत: नष्ट हो गई है, इसका राजस्व विभाग और कृषि विभाग ने सर्वे कर आरबीसी 6 (4) के अंतर्गत किसानों को क्षतिपूर्ति की राशि प्रदान की जाए एवं प्रधानमंत्री फसल बीमा के अंतर्गत इसका मुआवजा किसानों को शीघ्र दिलाया जाए।
इस अवसर पर नगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पंकज राठौर, सेवादल के शेष मेहरा, युवक कांग्रेस के मयूर जैसवाल, केसला ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष हेमचंद कश्यप,सहित किसान कांग्रेस के सतीश कुमार, अंकित चिमानिया, नरेन्द्र यादव, जल उपभोक्ता संस्था घुघवासा के अध्यक्ष नवल पटेल, कैलाश बड़कुर, मनीष चौधरी, कृष्णगोपाल सिंह राजपूत सहित दर्जनों किसान और कांग्रेस नेता उपस्थित थे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW