डीआरएम ने किया निरीक्षण, सुधार के दिये निर्देश

इटारसी। मंडल रेल भोपाल के प्रबंधक ने मंगलवार को इटारसी स्टेशन पर निरीक्षण कर सफाई व्यवस्था पर तो संतोष किया लेकिन उसे और बेहतर करने के निर्देश दिये। डीआरएम ने रेलवे परिसर में जीआरपी कालोनी के पास लगे एक होर्र्डिंग को तत्काल हटाने के निर्देश दिये तो होर्डिंग हटा दिया गया। रेलवे स्टेशन के निरीक्षण के बाद डीआरएम ने डीजल लोको शेड का निरीक्षण भी किया।
भोपाल मंडल रेल प्रबंधक उदय बोरबड़कर मंगलवार को सुबह साढ़े 9 बजे इटारसी स्टेशन पहुंचकर प्लेटफार्म का निरीक्षण किया। उन्होंने यहां सफाई व्यवस्था को देखा। इसी के साथ पेयजल सुविधा का निरीक्षण भी किया। उन्होंने स्टेशन प्रबंधक के कक्ष में मीडिया से चर्चा में कहा कि इटारसी स्टेशन एक बड़ा जंक्शन होने के कारण यहां बड़ी मात्रा में कचरा जेनरेट होता है जिसके चलते सफाई का भारी दबाव भी यहां पर बना रहता है। स्टेशन स्वच्छ रहे इसके लिए यात्रियों को भी सहयोग करना चाहिए।
मीडिया के इस सवाल पर कि ट्रेन आने पर प्लेटफार्म के नल बंद हो जाते हैं, रिजर्वेशन के तत्काल काउंटर पर कालाबाजारी एवं नर्मदा अस्पताल का लाखों का बिल होने से वहां कर्मचारियों का उपचार बंद करने पर कहा कि इस तरह के मामले उनके संज्ञान में नहीं हैं। डीआरएम ने नयायार्ड स्थित डीजल लोको शेड के दौरे पर निकल गये। उनके आने की पूर्व सूचना होने पर प्रबंधन ने पहले से ही सफाई व्यवस्था दुरुस्त कर ली थी।


मजदूर संघ ने दिया सात सूत्री ज्ञापन
पश्चिम मध्य रेलवे मजदूर संघ ने मंगलवार को यहां निरीक्षण करने आए डीआरएम को सात सूत्री मांगों का ज्ञापन दिया। वेस्ट सेंट्रल रेलवे मजदूर संघ की पांचों ब्रांचों के पदाधिकारी व सदस्य, आरके यादव मंडल सचिव एवं उमेश माथुर मंडल कोषाध्यक्ष के नेतृत्व में इटारसी दौरे पर निरीक्षण हेतु आए डीआरएम उदय बोरवणकर को स्टेशन अधीक्षक कार्यालय में समस्त पदाधिकारियों की मौजूदगी में सात सूत्री ज्ञापन दिया।
पश्चिम मध्य रेलवे मजदूर संघ ने डीआरएम को इटारसी आगमन पर सात सूत्री मांगों का ज्ञापन दिया है। सात सूत्री मांगों में बताया गया है कि रेलवे चिकित्सालय इटारसी से भोपाल के रेफरल हॉस्पिटल में सीधे रेफर नहीं किया जा रहा है, जो कि कर्मचारियों के जीवन से खिलवाड़ है। रेलवे द्वारा नर्मदा हॉस्पिटल होशंगाबाद का पिछले 7 माह का 82 लाख रुपए बिल ना देने के कारण कर्मचारी का इलाज प्रभावित हो रहा है। डीजल शेड इटारसी के जेई प्रशिक्षु जो एसटीसी झांसी प्रशिक्षण हेतु गए थे, प्रशिक्षण उपरांत 6 महीने के टीए का भुगतान अभी तक नहीं हुआ। डीजल शेड के अंदर धर्मकांटे से मेन रोड तक लगभग 200 मीटर रोड काफी जर्जर अवस्था में है, जिससे कर्मचारियों की बारिश के दौरान काफी परेशानी होती है। मंडल में 9 घंटे मीटिंग नहीं की जा रही तथा प्रशासन द्वारा किए जा रहे, ऑपरेशनल निर्णय संचालन पर गलत प्रभाव डाल रहे हैं। इटारसी प्लेटफार्म के दोनों छोर पर एक बेंच व शेड गार्ड, ड्राइवर, पॉइंट्स मैन के लिए थी जिस को दोबारा बनाने का निर्णय कई माह पूर्व होने के बाद भी अभी तक नहीं बनाई गई। 6. वर्षों से इटारसी बीना इटारसी खंड में रेलगाडिय़ों का संचालन किया जा रहा है। वर्तमान में बीना से इटारसी आ रहे इटारसी क्रू को अनावश्यक रूप से भोपाल में चेंज करा दिया जाता है। क्रन संचालन हेतु स्पष्ट नीति निर्देशों के अभाव में रनिंग स्टाफ को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है और इटारसी न्यू यार्ड स्थित रेलवे स्कूल का भवन काफी जीर्ण शीर्ण अवस्था में है। कभी भी दुर्घटना का कारण बन सकता है। संघ ने मांग की है कि अविलंब कार्यवाही की जाए एवं इंजीनियरिंग विभाग के महिला कर्मचारियों हेतु बाथरूम एवं चेंजिंग रूम का निर्माण कराया जाए। ज्ञापन के समय महाकालेश्वर कश्यप, कुंदन आगलावे, संजय कैचे, संतोष चतुर्वेदी, मनोज कलोसिया, हीरामन, शेख रमजान, रामस्वरूप मेहतो, मिलन कुमार, सुनील कुमार, अमित सोनिया, शंकरराव, अनिल शर्मा, राजकरण वर्मा, श्रवण कुमार एवं सुशीलाबाई सहित अनेक संघ पदाधिकारी एवं सदस्य मौजूद रहे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW