तस्कर को 10 साल की सजा, एक लाख रुपए जुर्माना

होशंगाबाद। चरस के एक तस्कर को विशेष न्यायालय होशंगाबाद ने एनडीपीएस एक्ट के अंतर्गत दस साल का सश्रम कारावास और एक लाख रुपए का जुर्माना किया है। अर्थदंड अदा न करने पर उसे दो वर्ष का अतिरिक्त कारावास और भोगना होगा। मामला करीब चार वर्ष पुराना है जब आरोपी इटारसी से इंदौर चरस को ले जा रहा था कि भोपाल तिराहे पर सब इंस्पेक्टर अनूप कुमार उईके ने उसे गिरफ्तार किया था।
शुक्रवार को विशेष न्यायाधीश एनपीएसएक्ट होशंगाबाद इकबाल गौरी खान की अदालत ने मादक पदार्थ चरस सप्लाई के मामले में आरोपी नारायण शाह 42 वर्ष, निवासी रक्सोला, मोतिहारी बिहार को दस साल का सश्रम कारावास और एक लाख रुपए के अर्थदंड से दंडित किया है। आरोपी को 11 नवंबर 15 को मारुति स्विफ्ट कार एमपी 04 टीए-7316 में अवैधानिक रूप से दो किलो 40 ग्राम चरस का परिवहन करते हुए पकड़ा था। यह ड्रग वह इटारसी से इंदौर ले जा रहा था। भोपाल चौराहे होशंगाबाद में वाहन चैकिंग के दौरान उपनिरीक्षक अनूप कुमार उईके को दूरभाष पर कार नंबर सहित सूचना प्राप्त हुई थी कि तीन लोग कार से इटारसी से इंदौर के लिए निकले हैं, उनके बैग में चरस है। नाकाबंदी करके उक्त कार को रोकने पर एक आरोपी मौका देखकर फरार हो गया। शेष दो लोगों में एक आरोपी नारायण शाह था जिसके कब्जे से चरस बरामद की गई। आरोपी पर प्रकरण पंजीबद्ध कर न्यायालय में पेश किया जहां उसे यह सजा सुनाई गई। शासन की ओर से पैरवी एजीपी अजयप्रकाश श्रीवास्तव ने की है।
अभियुक्त नारायण शाह से जब्तशुदा मादक पदार्थ चरस का वजन 2 किलो 40 ग्राम है जिसका बाजारू मूल्य लगभग 8 लाख 16 हजार रुपए है। कोर्ट ने जांच अधिकारी की भूमिका पर भी टिप्पणी करते हुए कहा है कि अभियुक्त नारायण निम्र गरीब का होना प्रकट होता है। इसके साथ ही आपेक्षित घटनाचक्र में वह निम्न स्तर की कड़ी होकर अनुसंधान अधिकारी ने मुख्य कडिय़ों के विरुद्ध कोई कार्यवाही न करके अपने कर्तव्य का निष्ठापूर्वक पालन न करना प्रकट होता है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW