तहसीलदार और नायब तहसीलदार सामूहिक अवकाश पर

राजस्व और न्यायालयीन कामकाज प्रभावित

होशंगाबाद। मध्यप्रदेश राजस्व अधिकारी (क. प्रशा.सेवा) संघ के तत्वावधान में होशंगाबाद जिले के समस्त तहसीलदार और नायब तहसीलदार तीन दिन तक सामूहिक हड़ताल पर चले गये हैं। होशंगाबाद तहसीलदार शैलेन्द्र सिंह बड़ोनिया के नेतृत्व में सभी तहसीलदार, नायब तहसीलदारों ने अपनी मांगों के संबंध में मुख्य सचिव के नाम का ज्ञापन कलेक्टर  शीलेन्द्र सिंह को सौंपा।
सभी तहसीलदार और नायब तहसीलदार 10 से 13 अक्टूबर तक सामूहिक अवकाश पर रहेंगे। तहसीलदारों ने लिखित सूचना देकर सामूहिक धरना हड़ताल पर जाने का ज्ञापन दिया है, जिसमें पूर्व में दिये ज्ञापन में शामिल मांगें पूरी नहीं होने पर अवकाश पर जाने का जिक्र है।

तहसीलदार और नायब तहसीलदारों की मांगें है कि संवर्गीय अधिकारियों के पदोन्नति का रास्ता खोलकर सशर्त पदोन्नति मिले, प्रदेश में 350 तहसीलदार और 200 डिप्टी कलेक्टर के पद रिक्त हैं। राजस्व अधिकारी द्वारा समस्त कार्यों को तहसील न्यायालय स्तर पर बिना संसाधन के जैसे कम्प्यूटर आपरेटर, लिपिक, भृत्य, स्टेशनरी, फर्नीचर, भवन, पेयजल, नियमित मासिक बजट के अलावा वेतन, अन्य विभागों के अधिकारी जैसे जनपद, महिला बाल विकास, मुख्य नगरपालिका अधिकारी की अपेक्षा बढ़ाया जाए, नायब तहसीलदारों को गाड़ी दी जाए या 100 लीटर डीजल प्रतिमाह या नियमानुसार राशि दी जाए।

कामकाज प्रभावित
तहसीलदारों और नायब तहसीलदारों की इस हड़ताल के कारण इटारसी तहसील कार्यालय का कामकाज बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व हरेन्द्र नारायण ने बताया कि तहसीलदार और नायब तहसीलदारों की कुछ वेतन विसंगति हैं, उन्होंने सामूहिक अवकाश का आवेदन दिया था। हमने कलेक्टर के पास भेज दिया है। उन्होंने माना कि काम तो प्रभावित हो रहा है। लेकिन, राजस्व संबंधी कामकाज राजस्व निरीक्षकों से कराके काम चलाया जा रहा है। लेकिन, न्यायालयीन कार्य तीन दिन प्रभावित रहेंगे।
CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: