दीवाली बाजार : नहीं होगी टेबिल पर दुकान की अनुमति

इटारसी। इस बार दीपावली के लिए जयस्तंभ और आसपास का बाजार टेबिल मुक्त रहेगा। यहां टेबिल पर किसी प्रकार की दुकान लगाने की अनुमति नहीं रहेगी। यहां नगर पालिका लाई, बताशे, दीये, रूई आदि की अनुमति देगी लेकिन ये दुकानें जमीन पर ही लगाने दी जाएंगी, टेबिल प्रतिबंधित रहेंगे। आज कुछ लोगों ने सुबह दुकानें लगाने का प्रयास किया था जिनको पुलिस के ट्रैफिक अमले ने सख्ती से हटा दिया है। दोपहर में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व के दफ्तर में दीवाली बाजार के लिए चर्चा हुई लेकिन फिर मैदान में आकर संभावना तलाशी गयी।
अनुविभागीय राजस्व हरेन्द्र नारायण, मुख्य नगर पालिका अधिकारी हरिओम वर्मा, एसडीओपी उमेश द्विवेदी, राजस्व निरीक्षक भरत लाल सिंघावने, सब इंजीनियर मुकेश जैन ने सबसे पहले पुरानी इटारसी के सूखा सरोवर मैदान का पटाखा बाजार के लिए निरीक्षण किया। इसके बाद अधिकारियों की यह टीम गांधी मैदान में पहुंची जहां पटाखा विक्रेताओं से लंबी चर्चा चली। हालांकि यहां पटाखा बाजार लगने पर लगभग सहमति बन रही है, लेकिन एसडीओ राजस्व ने कहा है कि यह फाइनल निर्णय नहीं है।

एमजी मार्ग पर छोटी दुकानें
जयस्तंभ चौक से आरएमएस आफिस रोड महात्मा गांधी मार्ग पर छोटी दुकानें जमीन पर लगायी जाएंगी। यहां टेबिल पर दुकानें लगाने की अनुमति नहीं होगी। दुकान का साइज पांच गुणा चार फुट रहेगा। नगर पालिका ने बाजार में पक्की दुकानों में बैठे दुकानदारों की परेशानी और बाजार में यातायात की असुविधा को देखते हुए जयस्तंभ और उसके आसपास लगने वाला बाजार टेबिल मुक्त रखने का निर्णय लिया है। जयस्तंभ और आसपास लायी, बताशे, दीये, रूई आदि की दुकानें जमीन पर लगाने की अनुमति दी जाएगी और ये दुकानें केवल तीन दिन ही लगेंगी।

फूलपत्ती फ्रेन्ड्स स्कूल मैदान पर
फूल और पत्ती का बाजार हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी फ्रेन्ड्स स्कूल मैदान पर ही लगाया जाएगा। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व हरेन्द्र नारायण का कहना है कि हमारा ज्यादा फोकस यातायात व्यवस्था बनाने पर रहेगा। जो भी अव्यवस्था फैलाएगा उसके खिलाफ चालानी कार्रवाई की जाएगी। मिठाई दुकानदार रोड पर टेंट नहीं लगाएं, इस बात पर भी ध्यान दिया जाएगा। जयस्तंभ चौक से नीमवाड़ा तक वाहनों पूरी तरह से प्रवेश निषेध रहेगा। इधर गुरुद्वारा भवन से तुलसी चौक श्री द्वारिकाधीश मंदिर मार्ग पर भी वाहनों को आने-जाने नहीं दिया जाएगा।

सुबह हो गया था विवाद
दरअसल, हर वर्ष दीपावली के बाजार के लिए कवायद करनी पड़ती है। नगर प्रशासन भी तभी जागता है, जब दुकान लगाने को लेकर कोई विवाद होता है। पहले से ही इसके लिए कवायद नहीं की जाती है। इस वर्ष भी ऐसा ही हुआ। मंगलवार को सुबह जब लाई-बताशे, चिरोंजी बेचने वाली कुछ महिलाओं और छोटे अन्य दुकानदारों ने अपनी जगह निश्चित करने के लिए कपड़े बिछाने प्रारंभ किये तो ट्रैफिक पुलिस के अलावा थाने से बड़ी संख्या में पुलिस बल ने आकर उनको सख्ती से हटा दिया। इसके बाद ही प्रशासन को सुध आयी कि दीवाली बाजार के स्थान चिह्नित करना है।

CATEGORIES
TAGS
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: