नयायार्ड रोड पर हुयी ग्वाल बाबा की महापूजा

इटारसी। नया यार्ड रोड पर नदी किनारे स्थित प्राचीन ग्वाल बाबा मंदिर पर सोमवार की सुबह गौवंशीय पशुओं के रक्षक महान संत श्री ग्वाल बाबा की महापूजा का आयोजन किया गया जिससे शहरी व ग्रामीण क्षेत्र सैंकड़ों जन एकत्र हुये।
उल्लेखनीय है कि यार्ड रोड पर ग्वाल बाबा का मंदिर सैंकड़ों वर्ष पुराना है। पूर्व के वर्षों में यहां पर मेहरागांव, तरोंदा, नयायार्ड, नाला मोहल्ला एवं गांधी नगर क्षेत्र के हजारों गौवंशी पशुओं को उनके पालक लेकर एकत्र होते थे। यहां इन पशुओं के स्वास्थ्य और सुरक्षा को लेकर यह सामाजिक आयोजन होता आ रहा है। इस आयोजन की विशेषता यह है कि मेहरागांव के प्रमुख गौपालक वंश कहलाने वाले पाल परिवार के एक सदस्य के शरीर में ग्वाल बाबा की शक्ति प्रवेश करती है। जिन्हें ग्वाल बाबा ही कहा जाता है। यह बाबा जल पात्र और खेड़का लेकर पशुओं की परिक्रमा कर उन पर जलरूपी नीर छिड़कते हैं जिससे पशु वर्षभर सुखी रहते हैं। इसी समय पशुपालक पटाखे की आतिशबाजी से पशुओं को बिदकाते हैं। इस क्रिया से पशुओं के शरीर में लगे कीटाणु दूर हो जाते हैं।
ग्वाल बाबा मंदिर पर करीब 100 वर्ष पूर्व मेहरागांव के कालूराम पाल से यह व्यवस्था शुरू हुयी। बाद में उनके पुत्र रामरतन पाल, फिर रमेश पाल और अब चौैथी पीढ़ी के रूप में दीपक मुन्ना पाल ग्वाल बाबा की शक्ति से यहां आनेवाले पशुओं के साथ ही पशुपालकों को भी स्वास्थ्य लाभ का आशीर्वाद प्रदान करते हैं। समय के साथ आए बदलाव में अब पशुपालक तो नाम मात्र के ही यहां एकत्र होते हैं, लेकिन पशुपालक और आमजन आज भी सैंकड़ों की तादात में ग्वाल बाबा की पूजा अर्चना के साथ आतिशबाजी के साथ गौधन उत्सव मनाते हैं। आज भी यह परंपरा जारी है। ग्वाल बाबा मंदिर से जुड़े हेमंत पाल, बबलू पटेल, जमनाप्रसाद, मुरारी लाल, भगवान दास आदि ने बताया कि ग्वाल बाबा के आसपास भारी मात्रा में अवैध अतिक्रमण हो गया है जिसके कारण पशुपालक चाहकर भी अपने पशुओं को यहां नहीं ला पाते हैं। अत: शासन से अपील की गई है कि अवैध अतिक्रमण को हटवाकर इस प्राचीन सिद्ध स्थल ग्वाल बाबा मंदिर एवं उसके आसपास लगी गौचारण की जगह को संरक्षित किया जाए।

गौसेवा उपचार केन्द्र में हुई गोवर्धन पूजा
गांधी नगर वार्ड क्रमांक 27 स्थित साईंराजा गौ-उपचार केन्द्र में गोवर्धन पूजा का आयोजन किया गया। जिसमें गौसेवक लखन कश्यप, बनवारी लाल बाथरी, विक्रम यादव एवं उनके साथियों ने गोवर्धन महाराज के साथ ही यहां पल रही बीमार गायों का श्रंगार कर उनकी सामूहिक पूजा की। ज्ञात हो कि शासकीय गांधी नगर स्कूल प्रांगण में यह नि:शुल्क गौ उपचार केन्द्र बना है, जहां के कार्यसेवक शहर के कोने-कोने से बीमार गायों को लाकर उनका नि:शुल्क उपचार करते हैं।

CATEGORIES
TAGS
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: