नया 8 वा कंटेन्मेंट जोन बना, पॉजिटिव हुए 26

नया 8 वा कंटेन्मेंट जोन बना, पॉजिटिव हुए 26

इटारसी। बुधवार को राहत के बाद गुरुवार को शहर से फिर एक पॉजिटिव मरीज सामने आया है। 15 अप्रैल से सांकलिया पुल के पास निवासी एक 71 वर्षीय महिला की तबीयत खराब थी। उनको पहले करीब दो दिन इटारसी में भर्ती कराया गया। यहां से होशंगाबाद जिला अस्पताल रैफर किया गया और वहां से नर्मदा अस्पताल और फिर एम्स भोपाल भेजा गया था। एम्स में उनका सेंपल लिया गया और आज की रिपोर्ट में वे कोरोना पॉजिटिव पायी गयी हैं। इस एक मरीज के बाद शहर में कोरोना पॉजिटिव की गिनती 26 हो गयी है और एक नया एरिया भी जुड़ गया है। सूचना के बाद कलेक्टर धनंजय सिंह, एसपी संतोष गौर, डीआईजी अरविंद सक्सेना, जिला पंचायत सीईओ आदित्य सिंह, एसडीएम सतीश राय, तहसीलदार तृप्ति पटेरिया, रितु भार्गव, सीएमओ सीपी राय सहित अन्य अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया।
डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी शासकीय अस्पताल के अधीक्षक डॉ. एके शिवानी के अनुसार मरीज इटारसी में करीब दो दिन भर्ती रही थी। यहां से उनको हालत में सुधार नहीं होने पर जिला अस्पताल होशंगाबाद रैफर किया और वहां से परिजन उनको नर्मदा अस्पताल ले गये। वहां से उनको भोपाल रैफर किया था। उनका सेंपल भी एम्स भोपाल में लिया था, जिसकी रिपोर्ट आज पॉजिटिव मिली है।
नर्मदा अस्पताल के मनोज सारन ने बताया कि मरीज लीलाबाई हेमराज नागेश नर्मदा अपना अस्पताल में 19 तारीख को आई थी, उसे पीलिया की शिकायत थी। मरीज को नर्मदा अपना अस्पताल में कोविड-19 के दिशा निर्देश अनुसार पूर्णत: सुरक्षात्मक तरीके से पीपी किट के साथ लिया गया था। नर्मदा अस्पताल में हैंड्स ग्लब्स, मास्क, चश्मा एवं थ्री लेयर का गाउन का उपयोग किया जाता है, और मरीज को पूर्णत: सुरक्षित तरीके से आइसोलेशन वार्ड में पृथक रूप से रखा गया था। इसमें पूर्ण रूप से सुरक्षा मानक को ध्यान में रखते हुए नर्मदा अपना अस्पताल में रखा गया। मरीज की रिपोर्ट मुख्य चिकित्सा अधिकारी होशंगाबाद को भी की गई थी। बाद में मरीज एम्स अस्पताल भोपाल गया। उन्होंने बताया कि नर्मदा अपना अस्पताल के संचालक डॉ राजेश शर्मा एवं डॉ रेनू शर्मा जी द्वारा कर्मचारी एवं मरीजों का पूर्णता सुरक्षित एवं सुरक्षा के साथ इलाज किया जाता है उनके मार्गदर्शन में सतत नर्मदा अपना अस्पताल के कर्मचारी सुरक्षात्मक तरीके से कार्य करते हैं इस मरीज के मामले में भी पूर्णता सुरक्षा के साथ शासन के नियमानुसार कार्य किया गया।

पूरे एरिये में सेनेटाइज किया
शहर के नये क्षेत्र में कोरोना पाजिटिव मरीज का निवास होने की सूचना के बाद तत्काल नगर पालिका के स्वास्थ्य विभाग की टीम नेशनल हाईवे किनारे सुदामा नगर पहुंची और संंबंधित के घर और आसपास सेनेटाइजर का छिड़काव किया। इसके साथ ही इस क्षेत्र की गलियां संत रामदास पब्लिक स्कूल तक और रोड के दक्षिणी हिस्से में भी नगर पालिका कने सेनेटाइजर का छिड़काव किया। इस दौरान संंबंधित के घर और आसपास की गलियों में बांस, टीन और पुलिस के बैरीकेट्स लगाकर पूरे क्षेत्र को सील किया गया है।

अधिकारी पहुंचे, बैरीकेटिंग की
महिला के कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट मिली, तो एसडीएम सतीश राय, तहसीलदार तृप्ति पटेरिया, नायब तहसीलदार ऋतु भार्गव और विनय प्रकाश ठाकुर, सीएमओ सीपी राय अपनी टीम के साथ पहुंचे। शाम को सीईओ जिला पंचायत आदित्य सिंह और डीआईजी अरविंद सक्सेना ने पहुंचकर बैरीकेटिंग कार्य को देखा। नपा के एआरआई विकास वाघमारे, कमलकांत बडग़ोती, जगदीश पटेल, प्रमोद माधव आदि मौके पर मौजूद थे। यातायात विभाग के प्रधान आरक्षक मदन लाल यादव ने अपनी देखरेख में बैरीकेटिंग का कार्य कराया।


चार स्थानों से सील किया
गुरुवार की शाम डीआईजी अरविंद सक्सेना ने सीईओ जिला पंचायत के साथ नये और 8 वे कंटेन्मेंट जोन का दौरा किया। आसपास रहने वालों को होम कोरेन्टाइन किया जा रहा है, पुलिस की राउंड द क्लाक ड्यूटी लगायी है। नेशनल हाईवे पर महिला के घर तक जाने वाले सभी रास्तों को 4 स्थानों से सील किया है और हाईवे किनारे टेंट लगाकर वहां पुलिस और अन्य विभाग के कर्मचारियों की ड्यूटी पाइंट बनाया गया है। डीआईजी श्री सक्सेना ने बताया कि जिस मकान में संक्रमित महिला का निवास है उसके सामने लगभग तीन दर्जन मजदूर ही रहते हैं जो अंडर ब्रिज निर्माण के दौरान यहां आए थे और लॉक डाउन के कारण यही रह गए इन सभी मजदूरों को पोस्ट क्षेत्र से निकालकर लगभग 30 लोगों को पवारखेड़ा में क्वॉरेंटाइन किया जाएगा।देर शाम को कलेक्टर धनंजय सिंह और एसपी संतोष गौर ने आकर व्यवस्थाओं का निरीक्षण किया।

अब आगे क्या-क्या होगा
महिला 10 अप्रैल को बीमार हुई थी, इटारसी सरकारी अस्पताल में उपचार प्रारंभ हुआ। इसके बाद जिला अस्पताल, फिर नर्मदा अस्पताल और 21 अप्रैल को एम्स भोपाल में शिफ्ट हुईं। अब 12 अप्रैल से 21 अप्रैल तक इनके उपचार के दौरान कौन इनके संपर्क में रहा, सभी की हिस्ट्री निकालकर सभी का टेस्ट होगा। इसके अलावा इन चारों अस्पताल में उपचार के दौरान जो भी महिला के संपर्क में आया, सभी की हिस्ट्री निकाली जा रही है। महिला के तीन किरायेदार और परिवार के सदस्यों की भी सेंपलिंग की जाएगी।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus (0 )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: