न्यूज़ अपडेट : पांच डाक्टर्स की टीम ने ढाई घंटे की सर्जरी

रीछ के हमले में घायलों की हालत स्थिर
इटारसी। सतपुड़ा के प्रोटेक्स फारेस्ट में परिसर कीरतपुर के कक्ष क्रमांक 136 में आज सुबह दो रेलकर्मियों पर हुए रीछ के हमले के बाद दोनों घायलों को नर्मदा अस्पताल होशंगाबाद में उपचार दिया जा रहा है। सबसे अधिक घायल मो. बख्तियार का आज दोपहर पांच डाक्टर्स की टीम ने ढाई घंटे आपरेशन करके सिर के मांस को व्यवस्थित किया। रीछ के हमले में उसके सिर का सारा मांस लटक गया था। दूसरे घायल रवि पांडेय को भी इसी अस्पताल में भर्ती किया है। दोनों का उपचार आईसोलेशन वार्ड में चल रहा है।
उल्लेखनीय है कि केसला से कीरतपुर के बीच ट्रैक पर ड्यूटी कर रहे दो रेलकर्मियों पर आज सुबह लगभग 7 बजे एक भालू ने हमला कर दिया। भालू रेलकर्मी को जंगल में उठा ले गया। उसे बचाने के लिए दूसरा रेलकर्मी भालू से भिड़ गया तो रीछ ने रेलकर्मी के सिर का मांस पूरी तरह नोंच दिया।
सूचना पर पहुंची वन विभाग की टीम ने जंगल की खाक छानी। रीछ तो नहीं मिला अलबत्ता घटना स्थल पर रेलकर्मी की एक घड़ी, पेन और जूते बरामद किए हैं। इनका पंचनामा बनाकर वन विभाग के नियमों के अनुसार दोनों घायलों को एक-एक हजार रुपए की राहत राशि स्वीकृत करके दे दी है। घटना रेल ट्रैक से करीब 4 से 5 सौ मीटर अंदर जंगल की है। बताया जाता है कि रीछ ने रवि पर हमला किया था। उसे बचाने के लिए मो. बख्तियार रीछ से भिड़ गया। रीछ ने रवि को छोड़कर बख्तियार पर हमला कर दिया और उसका सिर जबड़े में लेकर तथा पैर के पंजों से हाथ और पैर में नोंच डाला। किसी तरह से ये दोनों रीछ से बचकर आए हैं।

इनका कहना है…!
हमने घटना स्थल का दौरा किया है। जहां घटना हुई है, वहां भालुओं की भरमार है। हमें रेलवे ट्रैक से 4 से 5 सौ मीटर भीतर जंगल में घड़ी, जूते, पेन और खून के निशान मिले हैं। घायलों को विभाग के नियमानुसार राहत राशि दे दी है।
लखन लाल यादव, रेंजर

CATEGORIES
TAGS
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW