पीएसए ने किया 33 शिक्षक-शिक्षिकाओं का सम्मान

इटारसी। प्रायवेट स्कूल एसोसिएशन ने शिक्षक दिवस के मौके पर कविवर भवानी प्रसाद मिश्र ऑडीटोरियम में 33 शिक्षक-शिक्षिकाओं का शॉल, श्रीफल, स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र देकर सम्मान किया। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष व शिक्षक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर नीखरा, विधायक डॉ.सीतासरन शर्मा, पूर्व मंत्री विजय दुबे काकूभाई, नपा उपाध्यक्ष अरुण चौधरी, जिला कांगे्रस उपाध्यक्ष पाली भाटिया, सांसद प्रतिनिधि दीपक अग्रवाल अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
इस अवसर पर पूर्व सांसद रामेश्वर नीखरा ने कहा कि वह पिछले 38 वर्षों से शिक्षक कांग्रेस के अध्यक्ष हैं। अब तक वह सरकारी शिक्षकों के कार्यक्रम में भी आते जाते रहे है। पहली बार प्रायवेट स्कूल के शिक्षकों के बीच में आने का मौका मिला है। आज जाना कि प्रायवेट स्कूल चलाने वाले और उनमें पढ़ाने वालों के साथ कितनी परेशानी है। उन्होंने एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष द्वारा प्रायवेट स्कूल के शिक्षकों का सरकारी स्तर पर बीमा कराने, 60 वर्ष की उम्र के बाद पेंशन देने की बात मुख्यमंत्री के समक्ष रखने की बात कही। निजी स्कूलों को आरटीई के फीस समय पर मिले और उन्हें मान्यता को लेकर परेशान न होना पड़े इसके लिए संबंधित मंत्री से बात करेंगे। उन्होंने श्री भारद्वाज द्वारा अंतर्शालेय खेलकूद प्रतियोगिताओं के लिए सरकार से मदद दिलाने की बात भी की।
विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा ने कहा कि प्रायवेट स्कूल के संचालकों, शिक्षकों, पालकों और विद्यार्थियों की अपनी समस्याएं होती है, स्कूल संचालक को इन सभी से जूझना होता है। उन्होंने कहा कि श्री नीखरा कांग्रेस सरकार में अच्छा प्रभाव रखते हैं। उम्मीद है कि अब उनके माध्यम से स्कूल संचालकों की समस्याएं सुलझेंगी। श्री शर्मा ने कहा कि पूर्व में अंतर्शालेय खेल प्रतियोगिताएं होती थी, उसे पुन: शुरु करना चाहिए।
पूर्वमंत्री विजय दुबे काकूभाई ने कहा कि रामेश्वर नीखरा प्रदेश के कद्दावर नेता है, साथ ही शिक्षक कांग्रेस के अध्यक्ष होने के नाते वह शिक्षकों की समस्याओं से भलीभांति वाकिफ है और अब इस कार्यक्रम में आने के बाद हमें पूरा विश्वास है कि अब प्रायवेट स्कूल की समस्याओं का निराकरण इनके माध्यम से होगा। एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष शिव भारद्वाज ने आरटीई का पैसा मिलने में होने वाली परेशानी, स्कूलों की मान्यता नियमों में सरलीकरण करने, निजी स्कूलों के शिक्षकों के लिए सरकारी स्तर पर बीमा योजना लागू करने, 60 वर्ष की उम्र के बाद शिक्षक को 5 हजार रुपए प्रतिमाह की पेंशन देने एवं अंतर्शालेय खेलकूद प्रतियोगित पुन: शुरू करने संंबंधी बात रखी। कार्यक्रम को जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष पाली भाटिया, सांसद प्रतिनिधि दीपक अग्रवाल, एसोसिएशन के नगर अध्यक्ष जाफर सिद्दीकी ने भी संबोधित किया।
इस दौरान जिन शिक्षकों का सम्मान किया उनमें गोल्डन वर्ड अवार्ड नैना मालवीय, बालक धु्रव अवार्ड मंजुलता भारद्वाज, पारस रत्न अवार्ड ममता तिवारी, ताज टीव्हीएस अवार्ड रोहणी मजूमदार, रविन्द्रनाथ टैगोर अवार्ड सरिता सोनी, सन एकेडमी अवार्ड योगिता राय, आनंद अवार्ड आस्था शुक्ला, महर्षि बाल्मीकि अवार्ड सोनम चावरिया, जीनियस अवार्ड मनोरमा ठाकुर, राजेन्द्र रत्न अवार्ड कुनिका मालवीय, मुस्कान अवार्ड दीपिका केवट, परशुराम अवार्ड दिलीप यादव, नूरहक अवार्ड रितु मालवीय, मां नर्मदा अवार्ड प्रीति वर्मा, महाराजा अग्रसेन महाराज अजय शुक्ला, ज्ञानी गुरुबक्श सिंह अवार्ड, एक्सीलेंस इन एज्युकेशन अवार्ड संतोष यादव, नवीन राष्ट्रभारती अवार्ड प्रीति शर्मा, गुरु संतरामदास महाराज अवार्ड किरण पाल, स्वामी विवेकानंद अवार्ड राजेश चंद्रवंशी, सहस्त्रार्जुन अवार्ड रजनी अवस्थी, आदर्श अवार्ड प्रीति तोमर, कर्मरत्न अवार्ड कुमुद जायसवाल, ज्ञानरत्न अवार्ड संजय दुबे, रत्नश्री अवार्ड वैशाली बिस्ट, विशाल अवार्ड राजेश चौधरी पप्पू सर, बीबी फातिमा अवार्ड श्रीराममूर्ति नायडु, सनराईज अवार्ड बीना राजपूत, माखनलाल चतुर्वेदी अवार्ड नेहा बुधौलिया, श्रीमहावीर अवार्ड राजेश मालवीय, सरदार बल्लभ भाई पटैल अवार्ड राजेन्द्र सिंह राजपूत, गुरुकुलम अवार्ड शिल्पी श्रीवास्तव एवं पाश्र्वनाथ अवार्ड अब्दुल शकूर को प्रदान किया गया। संचालन एसोसिएशन की प्रवक्ता मंजु ठाकुर एवं अंजलि ललवानी ने तथा आभार प्रदर्शन उपाध्यक्ष विजय मनमानी ने किया।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW