पूर्णाहुति, महाआरती एवं भंडारे का आयोजन

पूर्णाहुति, महाआरती एवं भंडारे का आयोजन

श्री शतचण्डी महायज्ञ एवं श्रीराम कथा समारोह
इटारसी। चैत्र नवरात्र पर ग्राम सोनतलाई में चल रहे श्री शतचंडी महायज्ञ एवं श्रीरामचरित मानस प्रवचन रूपी धार्मिक अनुष्ठान संत समान पूर्णाहुति, महाआरती एवं विशाल भंडारे के साथ रामनवमी की मध्यरात्रि में समारोह पूर्वक संपन्न हो गया।
समापन दिवस पर उपस्थित हजारों हजार श्रद्धालु श्रोताओं को प्रभु श्रीराम के मर्यादामय चरित्र की कथा श्रवण कराते हुए राष्ट्रसंत श्री महावीरदास जी ब्रहचारी ने कहा की वर्तमान कालखंड में भारतवर्ष में पुन: रामराज के स्थापना की चर्चा राजनैतिक मंचों पर जब तब होती रहती है, परंतु रामराज स्थापित करने के लिए हमें अपने आप को श्रीराम के आदर्शमय चरित्र में ढालना होगा। श्रीराम कथा के प्रखंड वक्ता पं. शषिभूषणदास ने कहा कि भारतीय धर्म संस्कृति की रक्षा के लिए नारी को मर्यादा में रहना अति आवश्यक है। नारी जब अपनी मर्यादा त्याग देती है तो पूरा कुल कलंकित हो जाता है। छतरपुर के राघवेन्द्रदास एवं दतिया की मानस माधुरी ज्योति रामायणी ने भी अपनी संगीतमय वाणी में प्रभु श्रीराम की कथा बड़े ही सुन्दर स्वरूप में श्रोताओं को श्रवण कराई। जहां मानस पंडाल में ज्ञान रूपी मंदाकिनी प्रवाहित हो रही थी। वहीं यज्ञ शाला में श्री शतचण्डी महायज्ञ की पूर्ण आहुति यजमानों के द्वारा छोड़ी जा रही थी। इसके उपरांत महाआरती हुई। तत्पश्चात समस्त मानस वक्ताओं व यज्ञकर्ताओं का समान किया गया। संयोजक पं. राजीव दीवान ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि निरंतर 15 वे वर्ष में यह विशाल धार्मिक अनुष्ठान सफलतापूर्वक सपन्न हुआ है उसके लिए समस्त ग्रामवासी व क्षेत्रवासी धन्यवाद के पात्र हैं। आभार पश्चात शाम 6 बजे से प्रारंभ भंडारा जो निरंतर रात्रि 12 बजे तक चला।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW