पूर्व जनपद सदस्य के यहां घुसे हथियारबंद, सवा लाख का माल उड़ाया

इटारसी। रामपुर में पूर्व जनपद सदस्य और पूर्व सरपंच के घर हथियारबंद गिरोह ने धावा बोलकर करीब एक लाख के जेवर और 22 हजार रुपए नगदी उड़ा लिए। घर के सदस्यों की नींद खुलने पर चोर खेत की तरफ भाग गए। घर के एक सदस्य ने चोरों के भागते वक्त लकड़ी का गुटका फैंककर मारा तो एक चोर के हाथ से पिस्तोल गिर गई जो वहीं पड़ी है। चोरों के जाने के बाद करीब सुबह पौने चार बजे परिवार के सदस्य संजय प्रजापति ने 100 डायल को फोन किया लेकिन वे सुबह 10 बजे पहुंचे और पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने का कहकर वापस चले गए।
मिली जानकारी के अनुसार रात 3-4 के बीच पूर्व जनपद सदस्य और पूर्व सरपंच रामदास प्रजापति के घर में 4-5 हथियारबंद चोर घुसे और घर के सदस्यों को बेहोश करने के लिए स्प्रे भी किया। इसके बाद उन्होंने इत्मीनान से अलमारी और अन्य जगह से जेवर नगदी उड़ाए। इस बीच संजय प्रजापति की पत्नी जमना प्रजापति की नींद खुली तो उन्होंने संजय को जगाया। संजय ने जागते ही सबसे पहले चिल्लाते हुए चोरों की तरफ लकड़ी का गुटका फेंककर मारा तो चोर भागने लगे। इस बीच लकड़ी का टुकड़ा लगने पर एक चोर के हाथ से पिस्तोल गिर गई।
संजय के अनुसार चोर उनके यहां से लगभग एक लाख रुपए के जेवर और 22 हजार नगद ले गए हैं। उन्होंने बताया कि सुबह करीब पौने 4 बजे सूचना के बाद डायल 100 सुबह 10 बजे उनके यहां पहुंची। यदि उसी वक्त पुलिस पहुंच जाती तो चोरों को ग्रामीणों की मदद से पकड़ा जा सकता था। उनका कहना है कि वारदात के बाद चोर भागे तो हमने गांव को जगाया। लेकिन, चोरों के पास हथियार होने से हमने उनका पीछा करने का जोखिम नहीं उठाया। ग्राम के रोजगार सहायक सतीष यादव के घर भी चोरों ने घुसने का प्रयास किया था। सतीष के अनुसार रात के वक्त बिजली नहीं थी। वे खिड़की के पास खड़े थे। करीब 2-3 बजे का वक्त होगा। उन्होंने देखा कि उनके घर की तरफ करीब एक दर्जन लोग आ रहे हैं। पास आए तो एक ने घर में घुसने का प्रयास किया। जब उन्होंने चिल्लाए तो वे वहां से भाग निकले। इसके बाद उन्होंने श्री प्रजापति के यहां वारदात की। उन्होंने बताया कि चोर शायद ग्राम पाहनवर्री तरफ भी गए थे। श्री प्रजापति के यहां वारदात की सूचना के बाद रामपुर पुलिस करीब 10:30 बजे मौके पर पहुंची है, परिजनों के बयान लिए जा रहे हैं।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW