प्रतिभा का सम्मान, युवाओं ने निकाली रैली

परिचय सम्मेलन और सम्मान समारोह

परिचय सम्मेलन और सम्मान समारोह
इटारसी। अखंड राजपूताना सेवा समिति के तत्वावधान में रविवार को युवक-युवती परिचय सम्मेलन संपन्न हुआ। इस मौके पर समाज की प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया। इस मौके मुख्य अतिथि के रूप में राजस्थान सिरोही राजघराने के महाराजा रघुवीर सिंह देवड़ा, अजमेर से देवेन्द्र राठौड़, अजमेर प्रवीण सिंह भाटी, सहारनपुर यूपी से यशप्रताप सिंह पुंडीर, चैन्नई श्रीपाल सिंह देवड़ा, बीकानेर नरपत सिंह भाटी, ठिकाना छब्बीस अजमेर अजय प्रताप सिंह राठौड़ मौजूद थे।
it260217 (4)इनका हुआ सम्मान
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रघुवीर सिंह देवड़ा ने डॉ प्रतिभा सिंह परमार माखननगर को सम्मानित किया। प्रतिभा सिंह हिंदी, उर्दू तथा अंग्रेजी भाषा की जानकार हैं और जानी-मानी साहित्यकार हैं। इनके अलावा भीलाखेड़ी के पूर्व सरपंच लक्ष्मण सिंह सोलंकी को भी सम्मानित किया। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के लिए देहदान करने की घोषणा की है।
युवक-युवतियों ने मंच दिया परिचय
युवक-युवती परिचय सम्मेलन में राजपूत समाज के युवक-युवतियों ने अपना परिचय मंच से दिया है। यहां ५२ युवक-युवतियों ने विवाह के लिए अपना नामांकन भी कराया है।
ऋग्वेद से धरती पर हैं क्षत्रिय
राजपूतों का इतिहाit260217 (3)स बेहद गौरवशाली था, लेकिन हम अपने आप को उस गौरवशाली इतिहास के अनुरूप बरकरार नहीं रख पाए। यह बात महाराजा रघुवीर सिंह ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। देवड़ा ने इतिहास से जोड़कर बताया कि राजपूत क्षत्रिय वंश की ३६ शाखाएं हैं। क्षत्रिय ऋग्वेद काल से धरती पर हैं। क्षत्रियों को बाद में राजपूत कहा जाने लगा, जो राजवंश में जन्में उन्हें राजपूत कहा जाता है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: