माशिमं की परीक्षा : जिले की लड़कियों ने मारी बाजी

इटारसी। मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल ने बुधवार को सुबह कक्षा दसवी और 12 वी के परीक्षा परिणाम घोषित कर दिये हैं। कक्षा दसवी में इटारसी से प्रदेश और जिले की प्रावीण्य सूची में दो छात्राओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी है। प्रदेश की मेरिट लिस्ट में सरस्वती उच्चतर माध्यमिक शाला मालवीयगंज की छात्रा निहारिका पिता हरिशंकर मलैया ने दसवा स्थान प्राप्त किया है। वहीं ग्राम पथरोटा की छात्रा शुभागी अहिरवार ने होशंगाबाद जिले की मैरिट लिस्ट में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।
मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवी की परीक्षा में इटारसी से एक छात्रा निहारिका ने प्रदेश की टॉप टेन सूची में स्थान बनाया है। मूलत: पांजराकलॉ की रहने वाली निहारिका मलैया ने 97.8 प्रतिशत अंक हासिल किये और उन्हें प्रादेशिक प्रावीण्य सूची में दसवा स्थान प्राप्त हुआ है। निहारिका का कहना है कि उन्होंने स्कूल और घर पर काफी मेहनत की है। घर पर पांच से छह घंटे लगातार पढ़ाई करती थी। स्कूल में टीचर्स ने अच्छा मार्गदर्शन दिया है। माता पिता का काफी सपोर्ट मिला है। निहारिका अपनी इस सफलता से खुश हैं। उनको 95 फीसदी से अधिक अंक आने की उम्मीद थी जो पूरी तो हुई। लेकिन, वे चाहती थीं कि टॉप फाइव में स्थान बनता।
सरस्वती स्कूल के प्राचार्य मुकेश कुमार शुक्ला ने कहा कि यह हमारे विद्यालय की परंपरा रही है। हम और हमारा स्टाफ काफी खुश है। हमारे यहां इस तरह के बच्चों को पहचान कर उनको विशेष तैयारी करायी जाती है। इसी तरह से कमजोर बच्चों के लिए भी विशेष कक्षाएं लगती हैं ताकि वे अपना पढ़ाई का स्तर सुधारकर आगे बढ़ सकें। निहारिका के पिता शिवशंकर मलैया, शहर के एक होटल में मैनेजर हैं। वे भी अपनी बेटी की इस सफलता से काफी खुश हैं। उनका कहना है कि उन्होंने हमेशा बच्ची को आगे बढऩे के लिए प्रोत्साहित किया है। उसने जैसा चाहा वैसा सहयोग दिया है। आगे भी निहारिका जैसा चाहेगी, उनकी ओर से सहयोग मिलता रहेगा।
विद्या भारती शिक्षा समिति के अध्यक्ष कल्पेश अग्रवाल ने छात्रा की इस उपलब्धि पर खुशी जताते हुए कहा कि छात्रा ने स्कूल के साथ ही शहर और जिले को गौरवान्वित किया है। हम इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हैं।

होशंगाबाद जिले की प्रावीण्य सूचना में शहर से सटे गांव पथरोटा की बेटी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला पथरोटा की शुभागी अहिरवार ने 97.4 प्रतिशत अंक प्राप्त किया है। शुभागी के पिता सुआलाल अहिरवार मजदूरी करते हैं। वे अपनी बेटी की सफलता से काफी खुश हैं। उनका कहना है कि उनको उम्मीद थी कि बेटी यह उपलब्धि तो हासिल करेगी।
खुद शुभागी का कहना है कि उनको काफी खुशी हो रही है। यह सफलता उनके माता-पिता के सहयोग, शिक्षकों के मार्गदर्शन से प्राप्त हुई है। भविष्य में क्या बनना चाहती हैं, इस सवाल पर वे बोलीं कि अभी कुछ तय नहीं है। फिलहाल तो केवल शिक्षित होने के लिए मेहनत करनी है। भविष्य के लिए भविष्य में ही सोचेंगी। शुभागी की मां छोटी बाई का कहना है कि शुभागी को पढ़ाई का जुनून था। उसके शिक्षकों ने भी काफी मेहनत की है और आज उसे यह सफलता मिली। स्कूल के प्राचार्य वीके लवानिया का कहना है कि छात्रा की इस उपलब्धि पर विद्यालय गौरवान्वित हुआ है। पिछले वर्ष भी होमसाइंस विषय में स्कूल की बच्ची को उपलब्धि हासिल हुई थी।
इसी तरह से इटारसी आदिवासी बाहुल्य क्षेत्र कन्या हाईस्कूल सुखतवा की छात्रा रेशमा परवीन पिता सलाहुउद्दीन अंसारी ने दसवीं में 97 अंक प्राप्त कर जिले की प्रावीण्य सूची में दूसरा स्थान प्राप्त किया। प्राचार्य डॉ. आर अभ्यंकर ने बताया कि विद्यालय में संस्कृत, विज्ञान, अंग्रेजी के नियमित शिक्षक नहीं होने के बाद भी लगातार प्रयास से यह सफलता प्राप्त की। ग्रामीण अंचल में अंग्रेजी में अतिथि शिक्षक नहीं मिलने के कारण उन्होंने खुद अंग्रेजी की पढ़ाई की। रेशमा ने गणित में 100 में से 100 अंक प्राप्त किए हैं । इसका श्रेय वह गणित प्रयोगशाला को देते हैं।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW