मुस्कान में हुए भरतनाट्यम और कुचीपुड़ी नृत्य

इटारसी। गुरूवार को मुस्कान संस्था के बालक एवं बालिका छात्रावास में स्पिक मैके चैप्टर इटारसी के तत्वावधान में दिल्ली से आई नृत्यांगनाओं ने भरतनाट्यम और कुचीपुड़ी नृत्य की प्रस्तुति दी। दोनों ही नृत्यांगनाओं ने बच्चों को नृत्य से जुड़ी जानकारी भी दी। इस अवसर पर स्पिक मैके इटारसी चैप्टर प्रभारी सुनील बाजपेयी, बालक छात्रावास अधीक्षिका प्रीति शर्मा, बालिका छात्रावास अधीक्षिका रितु राजपूत सहित संस्था के अन्य सदस्य उपस्थित रहे।
स्पिक मैके के कार्यक्रम में कुचीपुडी नृत्य की प्रस्तुति देने दिल्ली से आई नृत्यांगना आयना मुखर्जी ने मां दुर्गा के पर आधारित संगीत ‘जय दुर्गे, दुर्गति परिहारिणी पर आंध्रप्रदेश के कुचीपुड़ी नृत्य की प्रस्तुति दी। साथ ही मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों को नृत्य के माध्यम से प्रस्तुत किया। दिल्ली से ही आई नृत्यांगना तान्या सक्सेना ने बल्लभाचार्य द्वारा रचित मधुराष्टकम् के एक पद आधारित संगीत पर तमिलनाडु के भरतनाट्यम नृत्य की प्रस्तुति दी। उन्होंने श्रीकृष्ण के आभा स्वरूप एवं विभिन्न कलाओं को बच्चों के समक्ष प्रस्तुत किया। दोनों ही नृत्यांगनाओं के नृत्य को देखकर बच्चों ने उनकी खूब सराहना की, साथ ही संगीत पर नृत्य करने का भी प्रयास किया।
कुचीपुड़ी नृत्यांगना आयना मुखर्जी एवं भरतनाट्यम नृत्यांगना तान्या सक्सेना ने नृत्य के पीछे उद्देश्य बताते हुए कहा कि हमारे देश में विभिन्न प्रकार के ग्रंथ लिखे गए हैं जिसमें पौराणिक भारत की विभिन्न कलाओं का वर्णन किया है। जिसमें नृत्यकला भी प्रमुख स्थान रखती है। इस कला से देश के प्रत्येक व्यक्ति को भारतीय शास्त्रीय संगीत से रूबरू कराना है। कुचीपुड़ी नृत्य मुख्य रूप से आंध्रप्रदेश एवं भरतनाट्यम तमिलनाडु प्रदेश की देन है। आज दी गई प्रस्तुतियों में देवी दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों एवं श्री कृष्ण की सुंदरता को नृत्यकला के माध्यम से बच्चों को समझाने का प्रयास किया है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW