मृत्यु भोज छोड़ने की पहल

इटारसी। मृत्युभोज जैसी प्रथा को अब हर समाज में त्यागा जा रहा है। जिला सर्व ब्राह्मण समाज भी कई वर्षों से मृत्यु भोज बन्द करने के प्रयास कर रहा है। पिछले दिनों सुखतवा में पं अशोक, गोविंद और पं त्रिलोकीनाथ तिवारी की मां एवं सूर्यनारायण, शशिकान्त तिवारी की चाची स्व.कमला बाई तिवारी के निधन पर युवा शाखा जिलाध्यक्ष मनोहर तिवारी, जिलाध्यक्ष जितेन्द्र ओझा ने मृत्युभोज न करने की अपील की, जिसे परिजनों ने स्वीकार लिया। इस अवसर पर विप्र समाज की ओर से मृतात्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई। तिवारी ने बताया कि धीरे-धीरे इस प्रथा को लेकर लोगों में जागरूकता आ रही है, भोज की जगह परिजनों को पौधरोपण, निर्धन बच्चों की पढ़ाई एवं अन्य सामाजिक कार्यो पर जोर देना चाहिए।

CATEGORIES
TAGS
Share This
error: Content is protected !!