रोड बनने 17 किमी की दूरी सिमटेगी 3 किमी में

ग्रामीण 10 मिनट में पहुंचेंगे डोलरिया, पहले लग जाता था एक घंटा

ग्रामीण 10 मिनट में पहुंचेंगे डोलरिया, पहले लग जाता था एक घंटा
इटारसी। समीपथ ग्राम कलमेसरा के निवासियों को अब डोलरिया जाने के लिए 17 किलोमीटर का फेर नहीं लगाना पड़ेगा। महज तीन किलोमीटर दूर डोलरिया जाने के लिए ग्रामीणों को अभी इटारसी जाकर मुख्य रोड से करीब सत्रह किलोमीटर का फेर लगाकर जाना पड़ता था। ग्रामीणों ने पिछले विधानसभा चुनाव के वक्त कलमेसरा-डोलरिया मार्ग निर्माण की मांग को लेकर मतदान का बहिष्कार किया था। उस वक्त यहां के विधायक सरताज सिंह ने इस मांग को पूरा करने का आश्वासन दिया था जो अब पूरा किया जा रहा है। आज प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री रामपाल सिंह ने पूर्व मंत्री सरताज सिंह और सांसद राव उदयप्रताप सिंह की उपस्थिति में तीन किलोमीटर रोड का भूमिपूजन किया। मार्ग का निर्माण लोक निर्माण विभाग करेगा। लोक निर्माण विभाग के मंत्री रामपाल सिंह ने ग्रामीणों को सड़क बन जाने का भरोसा दिलाने के लिए विभाग के अधिकारियों से इसके उद्घाटन की तारीख तक तय करा ली। कार्यक्रम में उपस्थित विभाग के अधिकारियों ने कहा कि 1 जून को इस सड़क का उद्घाटन भी करा लिया जाएगा।
लोनिवि मंत्री रामपाल सिंह ने सांसद उदयप्रताप सिंह की अध्यक्षता और सिवनी मालवा विधायक सरताज सिंह के विशिष्ट आतिथ्य में कलेमेसरा में स्कूल के सामने 74 लाख रुपए की लागत से बनने वाले तीन किलोमीटर के मार्ग का भूमिपूजन किया। भूमिपूजन कार्यक्रम में चंदन सिंह परिहार, सुनील तिवारी, दुग्ध संघ के संचालक मस्तान सिंह, शैलेन्द्र दीक्षित, राजा तिवारी, सरपंच मनोज, प्रीतम सिंह बुंदेला, जिला पंचायत सदस्य बाबू चौधरी, जितेन्द्र सिंह सोलंकी सहित अनेक लोग मौजूद थे।
it27117 (6)समारोह को संबोधित करते हुए रामपाल सिंह ने कहा, पहले गांव में सड़कों की कल्पना नहीं की जा सकती थी। अटल जी ने सड़कों के मामले में देश की दशा ही बदल दी। उन्होंने कहा कि अब सभी ग्रामीण सड़कों को शहरों से और ग्रामों को आपस में जोड़ेंगे। उन्होंने पूर्व मंत्री सरताज सिंह की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में विभाग का कामकाज इतना अच्छा हो गया कि हमें परेशानी नहीं होती है। सांसद ने कहा कि केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की सरकार बनने के बाद बांग्लादेश की समस्या हल हुई, नोटबंदी के बाद आतंकवाद पर लगाम लगी। प्रदेश के संपूर्ण मार्गों की समस्या शिवराज सिंह चौहान के मुख्यमंत्री बनने के बाद ही हल होना शुरु हो गई। डोलरिया से कलमेसरा मार्ग की लंबे समय से मांग थी जो एक वर्ष के भीतर सड़क बनने के बाद पूरी हो जाएगी। विधायक एवं पूर्व मंत्री सरताज सिंह ने कहा कि प्रदेश ेंमें सड़कों की दशा खराब थी। दस वर्ष में प्रदेश सड़कों के मामले में क्रांतिकारी परिवर्तन आए हैं। हमने पांच हजार किलोमीटर के एनएच के प्रस्ताव लाए हैं जिसमें से ढाई हजार किलोमीटर स्वीकृत हैं। प्रदेश में गुणवत्तापूर्ण सड़क बन रही है, पहले एक वर्ष में ही उधड़ जाती थी। उन्होंने बताया कि नई तकनीक से अंतर्राष्ट्रीय स्तर की सड़कें बन रही हैं।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW