लायसेंस के लिए लेना होगा खाद्य सुरक्षा का प्रशिक्षण

इटारसी। आमजन को स्वच्छ एवं सुरक्षित खाद्य उपलब्ध कराने को स्वास्थ्य एवं औषधि विभाग ने नया कदम उठाया है। खाद्य सुरक्षा विभाग सभी खाद्य कारोबारियों को प्रशिक्षित करने का अभियान चला रहा है और अब तक जिले में ऐसे छह प्रशिक्षण कैंप आयोजित किये जा चुके हैं जिसमें इंद्रप्रस्थ एजेंसी प्रशिक्षण प्रदान कर रही है। रविवार को एजेंसी के मुकुल गुप्ता ने साईंकृष्णा रिसोर्ट में शहर के खाद्य विके्रेताओं को प्रशिक्षण देकर परीक्षा ली है। ये पेपर लेकर दिल्ली जाएंगे और पास होने पर इनको प्रमाण पत्र मिलेगा। जो लोग परीक्षा में उत्तीण नहीं होंगे उनको पुन: मौका दिया जाएगा।
आमजन को स्वच्छ एवं सुरक्षित खाद्य उपलब्ध कराने को खाद्य एवं औषधि विभाग ने नया कदम उठाया है। खाद्य सुरक्षा विभाग ने राज्य के सभी खाद्य कारोबारियों को प्रशिक्षित करने का निर्णय लिया है। इसके लिए सभी को प्रशिक्षण लेकर प्रमाण पत्र लेना होगा। प्रशिक्षण नहीं लेने वाले कारोबारी खाद्य पदार्थ की बिक्री नहीं कर सकेंगे। साथ ही खाद्य संरक्षा अधिकारी उनके लाइसेंस को भी निलंबित कर देंगे। भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) के सहयोग से राज्य के होटल, रेस्टोरेंट, ढाबा, गेस्ट हाउस समेत खाद्य पदार्थ बेचने वाले दुकानदारों व वेंडर्स को खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता, सुरक्षा, स्वच्छता, रख-रखाव, प्रबंधन, अच्छी निर्माण विधि एवं हैंडलिग प्रोसेस के बारे में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्राधिकरण भोजन के मानकों को स्थापित करने, खाद्य पदार्थ की गुणवत्ता के लिए किसी भी भोजन में इस्तेमाल होने वाले रासायनिक, पोषक गुणों, भोजन के रंग, महक, आकार आदि की जांच करता है। खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम 2006 के तहत एफएसएसएआई खाने में मिलावट पर नियंत्रण करने का कार्य करता है और खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करता है। प्रशिक्षण देने के लिए एजेंसी अधिकृत इंद्रप्रस्थ नई दिल्ली को अधिकृत किया है। एजेंसी ने रविवार को साईंकृष्णा रिसोर्ट में शहर के करीब पचास खाद्य कारोबारियों को प्रशिक्षण प्रदान करके उनकी परीक्षा ली है। अब एजेंसी यह पेपर दिल्ली ले जाएगी और वहां जांच के बाद प्रमाण पत्र तैयार किये जाएंगे। जो भी प्रशिक्षणार्थी परीक्षा में यदि सफल नहीं हो सकेगा तो उसे फिर से पेपर देने का मौका प्रदान किया जाएगा।

प्रशिक्षण में व्यापारियों को दी ये जानकारी
साईं कृष्णा रिसोर्ट इटारसी में आयोजित प्रशिक्षण में इटारसी शहर एवं आसपास के गांव के 70 किराना व्यापारी उपस्थित हुए। इंद्रप्रस्थ एकेडमी के मास्टर ट्रेनर मुकुल गुप्ता ने ऑर्गन तकनीकी विषय पर जानकारी दी गई कि खाद्य पदार्थों की सुरक्षा, स्थान और परिसर की सफाई के लिए क्या आवश्यक कदम उठाने हैं। गुणवत्ता जांच सारे इन्वेंटरी मैनेजमेंट पर्सनल हाइजीन पेस्ट कंट्रोल सैनिटेशन एंड प्रोग्राम और व्यापारियों का मेडिकल चेकअप और जितने भी रिकॉर्ड रखने की जानकारी के अलावा हर एक दुकानदार को या प्रतिष्ठान को डिस्पले बोर्ड लगाना जिसमें की गोल्डन रूल्स होते हैं आवश्यक बताया। इसके अलावा दुकान में खाद सामग्री रखने से संबंधित कंपनी से खाद सामग्री प्राप्त करने के दौरान क्या-क्या सावधानी रखना चाहिए। होलसेलर रिटेलर को सामान बेचने के दौरान स्टोरिंग के दौरान क्या-क्या कंडीशन, सेनेटरी कंडीशन का पालन करना चाहिए। खाना बनाने के दौरान क्या-क्या सावधानी रखना चाहिए, जो कर्मचारी कार्य कर रहे हैं उनको मेडिकल चिकित्सा मेडिकल चेकअप कराना चाहिए जैसी बातें बतायीं।

इनका कहना है…!
खाद्य विभाग द्वारा कारोबारियों के लिए प्रशिक्षण लेकर प्रमाण पत्र लेना अनिवार्य कर दिया है। इसके लिए अलग-अलग खाद्य कारोबारी के लिए शुल्क का भी निर्धारण किया है। वहीं स्ट्रीट वेंडर्स को नि:शुल्क प्रशिक्षण दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि खाद्य सुरक्षा विभाग की ओर से खाद्य कारोबारियों के लिए प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इसमें सभी कारोबारी के लिए प्रशिक्षण अनिवार्य कर दिया गया है। प्रशिक्षण प्राप्त नहीं करने वाले कारोबारी का लाइसेंस निलंबित कर दिया जाएगा।
शिवराज पावक, खाद्य सुरक्षा अधिकारी

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW