शिक्षकों के कंधों पर है राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी

शिक्षकों के कंधों पर है राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी

आचार्य चाणक्य शिक्षक सम्मान समारोह
इटारसी। किसी भी देश और समाज का निर्माण तभी होता है, जब उसे मार्गदर्शन करने वाले अच्छे शिक्षक होते हैं। प्राचीन काल में गुरूकुल परंपरा से लेकर आज आधुनिक शिक्षा के दौर में शिक्षकों के कंधों पर ही राष्ट्र निर्माण की जिम्मेदारी है। शिक्षक सृजन करते हैं और बच्चों को शिक्षा के जरिए सही दिशा में ले जाते हैं। सर्व ब्राह्मण समाज ने ऐसे शिक्षकों का सम्मान कर अनुकरणीय पहल की है।
यह बात सर्व ब्राह्मण समाज द्वारा ऑडिटोरियम में आयोजित आचार्य चाणक्य शिक्षक सम्मान समारोह में अतिथियों ने कही। कार्यक्रम में विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, वरिष्ठ पत्रकार शरद द्विवेदी, पूर्व मंत्री विजय दुबे काकू भाई, पूर्व विधायक पंडित गिरजा शंकर शर्मा, सुनील तिवारी, रमेश के साहू, आयुक्त हस्तशिल्प विकास निगम राजीव शर्मा मंचासीन थे। प्रारंभ में मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलन हुआ। समाज की ओर से अतिथियों का स्वागत किया। संगठन के जिलाध्यक्ष जितेन्द्र ओझा, नगर अध्यक्ष अशोक शर्मा ने बताया कि सभी समाज के प्रतिनिधियों ने अपने पूर्वजों की स्मृति में एक-एक शिक्षक का सम्मान किया है। इनमें सुरेश शास्त्री, गुड्डन पांडे, कैलाश-बेनी शर्मा, कैलाश डोंगरे, सरदार जसपाल सिंघ भाटिया, प्रभात शर्मा, आशुतोष शर्मा, अश्वनी दुबे, हेमंत दुबे जमानी, प्रमोद पगारे, विजय बाबू चौधरी, मौलाना सिद्दीकी, अनिरुद्ध तिवारी-दीपक तिवारी, अशोक मालवीय, महेंद्र-संजय शर्मा, अनिता दुबे होशंगाबाद, गिडियन ग्लैडविन, सावित्री उइके, धर्मेंद्र रणसूरमा, पवन शुक्ला, संदीप तिवारी, मनोज मिश्रा, जुगल किशोर शर्मा, कुलभूषण मिश्रा, सौरभ सिलाकारी, संतोष भारद्वाज, सत्येंद्र तिवारी, प्रमोद पांडेय, पुरुषोत्तम झलिया की ओर से 28 सेवानिवृत्त शिक्षकों को सम्मानित किया है।
कार्यक्रम का संचालन सुनील बाजपेई ओर वरिष्ठ अधिवक्ता अशोक शर्मा ने किया। आभार कुलभूषण मिश्रा ने व्यक्त किया। कार्यक्रम में दिनेश उपाध्याय, प्रकाश दुबे मनीष जोशी, संतोष भारद्वाज, आलोक दीक्षित, आलोक गिरोटिया, संजय बाजपेई, राजेश पंडित, शैलेन्द्र पाली, धर्मेन्द्र रणसूरमा, अल्लू जोशी, शरद दीक्षित, कमल लाटा, अंकित तिवारी आदि का सहयोग रहा।

CATEGORIES
TAGS

COMMENTS

Wordpress (0)
Disqus ( )
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: