सभापति के आरोपों का सीएमओ ने दिया जवाब

इटारसी। अभी दो दिन पूर्व ही नगर पालिका परिसर में लगे प्रधानमंत्री आवास शिविर के दौरान सभापति राकेश जाधव द्वारा लगाये अपनों को उपकृत करने के आरोपों का मुख्य नगर पालिका अधिकारी हरिओम वर्मा ने एक वीडियो बयान जारी कर जवाब दिया है। सीएमओ का कहना है कि उन पर लगाये आरोपी गलत और बेबुनियाद हैं। पूर्व में जिनका पंजीयन किया गया है, उनको ही शिविर में बुलाया गया था और उन्हीं को ऋण की प्रक्रिया में शामिल किया है।
अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब देने के लिए मुख्य नगर पालिका अधिकारी हरिओम वर्मा ने आज एक वीडियो बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में हितग्राहियों को लाभान्वित करने में भेदभाव और अपनों को उपकृत करने जैसी बातें पूरी तरह से गलत हैं, क्योंकि इस योजना में जिन हितग्राहियों को शिविर में बुलाया गया था, उनका पूर्व में ही पंजीयन हो चुका था। हमने कोई नया पंजीयन नहीं किया। सीएमओ श्री वर्मा ने कहा कि कहा कि योजना की शुरुआत में 1077 हितग्राहियों से पांच-पांच हजार रुपए जमा कराये थे। उपलब्ध भूमि के हिसाब से कुछ 648 ईडब्ल्यूएस आवासों का निर्माण होना है, क्योंकि डीपीआर में 648 की स्वीकृति हुई है।

यहां इतने आवास बनने थे
प्रियदर्शिनी नगर में -264
आजाद नगर में – 144
बैंक कालोनी में – 240
इतने बनने की स्थिति
प्रियदर्शिनी नगर में -100
आजाद नगर में -96
बैंक कालोनी – मामला कोर्ट में

ये अंशदान रहेगा
केन्द्र और राज्य से डेढ़-डेढ़ लाख
हितग्राहियों का अंशदान दो लाख
शेष नगर पालिका से अधोसंचरचना से

शिविर में आए इतने हितग्राही
नपा द्वारा लगाये शिविर में करीब 2 सौ हितग्राही आए
हितग्राहियों ने अभी जमा किये हैं 20 हजार रुपए,
शेष रुपए बैंक लोन के माध्यम से लिये जाएंगे

इनका कहना है…!
मुझ पर लगाये आरोप गलत हैं। हमें जल्दी निर्माण करके देना है। शिविर में सबको बुलाया था और प्रथम आओ, प्रथम पाओ के आधार पर दिये जाएंगे। जो जल्दी सबकुछ कंपलीट करके देगा उसे मिलेगा।
हरिओम वर्मा, सीएमओ

ये लगाए थे जाधव ने आरोप
सभापति राकेश जाधव ने नगरपालिका के सीएमओ हरिओम वर्मा पर सरकार के दबाव में प्रधानमंत्री आवास हितग्राहियों से आचार संहिता के दौरान 30 लाख रुपए 200 हितग्राहियों से वसूलने का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि 1000 हितग्रहियों में से 200 अपनों का चयन सीएमओ ने कांग्रेस नेताओं के कहने पर मुंह देखकर 15000 रुपए के हिसाब से पैसे जमा करा लिए हैं और बाकी 800 हितग्रहियों को हवा तक न लगी। सभापति राकेश जाधव ने पूछा था कि सरकार का ऐसा कौन सा दबाव था कि सीएमओ ने इसकी सूचना पूरे हितग्राहियों सहित पार्षदों को भी देना उचित नहीं समझा? सभापति ने सीएमओ इटारसी की शिकायत सांसद उदय प्रताप सिंह व विधायक डॉक्टर सीतासरन शर्मा से कर उक्त मामले की जांच कर दोषी अधिकारी पर कार्यवाही करने की मांग की है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW