सर्राफा व्यापारी से लूट : 241 ग्राम सोने के जेवर बरामद

वारदात का मुख्य एक आरोपी है अभी फरार
इटारसी। पिछले वर्ष 5 फरवरी 2019 को सर्राफा व्यापारी हेमंत सोनी एवं महेंद्र जैन के साथ हुई लूट के तीसरे आरोपी को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दो आरोपी पूर्व में ही गिरफ्तार किये जा चुके हैं। इस घटना का एक आरोपी अब भी फरार है। पुलिस ने घटना में व्यापारी से लूटे करीब दस लाख कीमत का 241 ग्राम सोने के जेवर जब्त कर लिये हैं। वारदात को अंजाम देने वाले ओडिशा के 3 एवं बालाघाट मप्र का 1 आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं, 1 अन्य फरार है।
शनिवार को दोपहर सिटी थाने में एसडीओपी उमेश द्विवेदी एवं टीआई राघवेन्द्र सिंह ने प्रेसवार्ता के माध्यम से तीसरे आरोपी की गिरफ्तारी और जब्त माल की जानकारी दी। घटना के दो आरोपी सीताराम दास एवं ओम उर्फ ओमी यादव पहले गिरफ्तार हो चुके थे जबकि तीसरा आरोपी मुरलीदास अब गिरफ्तार हुआ। चौथा आरोपी शेखरराव अब भी गिरफ्तारी से बचा हुआ है। आरोपियों ने इटारसी के अलावा फैजाबाद, कोटा, फरुखाबाद, बूंदी और जयपुर में भी वारदात की हैं। इस दौरान सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष यज्ञदत्त गौर और पीडि़त व्यापारी भी मौजूद थे। उन्होंने पुलिस की कार्यप्रणाली की सराहना की और बदमाशों के पकड़े जाने पर पुलिस को धन्यवाद दिया। सर्राफा एसोसिएशन के अध्यक्ष यज्ञ दत्त गौर ने सर्राफा व्यापारी से लूट मामले में खुलासा करने पर स्थानीय सर्राफा एसोसिशन की तरफ से पुलिस का सम्मान करने की घोषणा की इसी तरह सकल जैन समाज भी पुलिस का सम्मान करेगा। पत्रकार वार्ता में बताया गया कि आगामी दिनों में एक कार्यक्रम आयोजित कर दोनों ही संगठन पुलिस का धन्यवाद ज्ञापित करेंगे साथ ही पुलिस फंड में एक निश्चित राशि भी दी जाएगी।

ये थी घटना
सर्राफा कारोबारी हेमंत सोनी एवं उनके मालिक महेन्द्र जैन 5 फरवरी 2019 को रात करीब 8:35 बजे अपनी दुकान बंद करके सोने-चांदी के जेवर एक थैले में भरकर पैदल ही दुकान से करीब सौ मीटर दूर घर की ओर जा रहे थे कि अज्ञात बाइक सवार दो बदमाशों ने पीछे से आकर जोर से हार्न बजाया तथा मालिक महेन्द्र जैन के हाथ में रखा सोने-चांदी का थैला झपटकर भाग गये। उनका कुछ दूर महेन्द्र जैन ने पैदल पीछा किया किन्तु वे नहीं मिले। इसके बाद उनकी शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर आरोपियों की पहचान के प्रयास किये गये।

विवेचना में आये ये नाम
पुलिस की विवेचना के दौरान अज्ञात आरोपियों के नाम सीताराम उर्फ माइकल सीताराम दास पिता नागेश्वर दास 28 वर्ष, निवासी पुरबाकोट थाना कोरई जिला जाजपुर ओडिसा, मुरलीदास पिता नागेश्वर दास 24 वर्ष, निवासी पुरबाकोर्ट थाना कोरई जिला जाजपुर ओडीसा, शेखर पिता कोंडलराव प्रधान 22 वर्ष, निवासी ग्राम पूर्वाकोट थाना कोरई जिला जाजपुर ओडीसा, ओम उर्फ ओमी यादव पिता नंदकिशोर गोंड तेलगू 24 वर्ष, निवासी इंदिरा कालोनी बालाघाट मप्र के रूप में हुई थी। टीम ने लगातार प्रयास करके सीताराम और ओमी यादव को गिरफ्तार कर लिया था।

दो बदमाश हैं शातिर
चारों आरोपियों में मुख्य आरोपी मुरलीदास व शेखर राव बहुत शातिर होने से लगातार रहने के स्थान बदल रहे थे। इसी कारण पुलिस को गिरफ्तारी में परेशानी हो रही थी। पुलिस दो को गिरफ्तार करके माल जब्त कर चुकी थी। जो दो आरोपी थे, कुछ माल उनके पास था। पुलिस टीम ने मुरलीदास उर्फ गेंटा मुरली की तलाश में तकनीक की मदद ली। लोकेशन उप्र मिलने पर वहां की पुलिस से संपर्क करके मुरलीदास को पकड़ा और पुलिस रिमांड लेकर पूछताछ की तो उसने बताया कि ओडीसा से बाइक से आकर बुदनी में किराये का मकान लेकर रुकने और सराफा में रैकी करना बताया।

रातभर बुदनी में रुके थे
आरोपी 5 फरवरी 2019 को सराफा बाजार में वारदात करने के बाद सीधे बाइक से बुदनी स्थित किराये के मकान में जाकर ठहरे थे। उन्होंने रात बुदनी में ही गुजारी थी और इसके बाद वे सभी ओडीसा चले गये थे जहां उन्होंने अपने-अपने हिस्से में आये सोने के जेवर को अपने घर ग्राम पूर्वाकोट थाना कोरई जिला जाजपुर में जमीन में गड्ढा खोदकर छिपा दिया था। पुलिस टीम ने अभियुक्त मुरलीदास उर्फ गेंटा मुरली की बतायी निशानदेही पर सोने के कुल वजनी जेवरात 241 ग्राम, कीमत करीब 9 लाख 60 हजार बरामद किये हैं। फरार आरोपी शेखर पिता कोंडलराव प्रधान की तलाश की जा रही है।

इनकी रही मुख्य भूमिका
लूट की यह घटना पुलिस के लिए चुनौती थी। तत्कालीन एसपी अरविंद सक्सेना के बाद वर्तमान एसपी एमएस छारी, एडिशनल एसपी घनश्याम मालवीय के मार्गदर्शन और एसडीओपी उमेश द्विवेदी द्वारा लगातार निर्देश के साथ ही टीआई राघवेन्द्र सिंह चौहान के नेतृत्व में गठित टीम में उपनिरीक्षक अनूप सिंह बघेल, एएसआई संजय रघुवंशी, आरक्षक हेमंत तिवारी, हरीश, अविनाश, गुलशन को विशेष रूप से प्रशिक्षित किया गया था। इस टीम ने सतर्कता और सजगता से अभियुक्त मुरलीदास को गिरफ्तार करके लूट की घटना में लूटा गया मशरूका बरामद करने में सफलता प्राप्त की है।

अब तक इतना माल बरामद
सोने के जेवर- लूट की घटना में करीब 960 ग्राम माल गया था। आरोपियों ने नग निकालकर फैंक दिये थे। इस तरह से करीब 753 ग्राम सोना आपस में बांट लिया। पुलिस ने अब तक पूर्व और वर्तमान मिलाकर करीब 5 सौ ग्राम माल जब्त किया है। वर्तमान में एक ब्रेसलेट, 9 नग चेन, 5 लेडीज अंगूठी, 13 जेंट्स अंगूठी, 5 भगवान पेंडल, 2 सादा चेन पेंडल, सोने के हार, 1 मंगलसूत्र पेंडेंट, 15 नग कान के टॉप्स, 1 जोड़ झुमकी कटोरी, 1 जोड़ कान की बाली। कुल वजन 241 ग्राम। कुल कीमत 9 लाख साठ हजार रुपए। शेष फरार आरोपी शेखर प्रधान की गिरफ्तारी पर मिलने की संभावना है।

इनका कहना है…!
अब तक तीन आरोपी गिरफ्तार किये जा चुके हैं। वर्तमान में 241 ग्राम सोने के जेवर बरामद हुए। पहले और अब तक कुल करीब पांच सौ ग्राम सोना जब्त हो चुका है। शेष एक आरोपी के पकड़े जाने पर शेष जेवर भी बरामद हो जाएंगे। पुलिस के प्रयास जारी हैं, चौथा आरोपी भी जब्त हाथ आ जायेगा।
आरएस चौहान, टीआई

CATEGORIES
TAGS
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW