सांप निकले तो मारें नहीं, विशेषज्ञ को बुलाएं

सर्पमित्र अभिजीत यादव ने जारी किये अपने मोबाइल नंबर
इटारसी। बारिश के शुरुआती दिनों में जहरीले जीव-जंतुओं, खासकर सांप निकलने की घटनाएं बढ़ जाती हैं। ऐसे में हमें सतर्क रहने की जरूरत है। जैसे ही बारिश प्रारंभ होती है, पानी जमीन के भीतर जाता है तो बिलों में छिपे सांप आदि बाहर भागते हैं। ऐसे में यदि धोखे से आपका पैर पड़ जाए तो यह असावधानी जानलेवा साबित होती है। यह उमस से घबराकर बाहर आते हैं और किसी को भी अपना निशाना बना सकते हैं। शहर के सर्प विशेषज्ञों ने आमजन से अनुरोध किया है कि इन जीवों को मारें नहीं। यदि सांप आदि दिखाई देते हैं तो उनको सूचित करें ताकि ये उनको पकड़कर जंगलों में छोड़ सकें।
बारिश के दिनों में जमीन के भीतर पानी जाने पर सूखी जमीन के भीतर एकदम से उमस का वातावरण बनता है और भीतर बिलों में छिपकर बैठे जहरीले जीव कोबरा, रसल वाईपर, करैत आदि बाहर निकलते हैं। ये जहरीले होते हैं। हालांकि इसके अलावा अन्य गैर विषैली प्रजाति के सर्प भी निकलते हैं, जो खतरनाक तो नहीं होते लेकिन कई बार इनसान घबराहट में ही जान छोड़ देता है। इन सर्प को यदि देखें तो सर्प विशेषज्ञों से तत्काल संपर्क करें ताकि ये उनको पकड़कर उनके मूल स्थान जंगलों में छोड़ सकें।
सर्प विशेषज्ञ अभिजीत यादव का कहना है कि बारिश का मौसम आने वाला है हम जिस तरह पानी से बचने के लिए छत ढूंढते हैं ठीक उसी तरह ये सर्प भी पानी से बचने के लिए सूखी जगह की तलाश में हमारे घरों में आ जाते हैं। ये हमें किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते हैं। सांपों का घरों में आने का एक कारण यह भी है कि चूहे, छिपकली, मेंडक, आदि इनके आहार हैं। आहार की तलाश में ये हमारे घरों में आ जाते हैं। सांप प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए अहम भूमिका निभाते हैं। उन्होंने आमजन से निवेदन किया है कि सांपों को एवं किसी भी जीव जंतु को मारें नहीं और यदि कोई ऐसा करता है तो उसे रोकें अगर किसी के घर में सांप दिखाई देता है तो हमें या वन विभाग को जानकारी दें। हम इन्हें सुरक्षित आप के घरों से पकड़ कर जंगल में पुनर्वास के लिए छोड़ देते हैं। अभिजीत यादव से संपर्क के लिए उनके मोबाइल न. 8962190951 और 8319938235 पर संपर्क किया जा सकता है।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW