सूख रही धान की फसल, किसान मिले एजीएम से

सूख रही धान की फसल, किसान मिले एजीएम से

इटारसी। आज लगभग एक दर्जन गांवों के दो दर्जन किसानों ने विद्युत वितरण कंपनी के उप महाप्रबंधक से यहां पीपल मोहल्ला स्थित कार्यालय में आकर मुलाकात की। उन्होंने उपमहाप्रबंधक एमएल निकरवार से कहा कि पर्याप्त बारिश नहीं होने से बिजली पंप से फसल को पानी देना ही एकमात्र विकल्प है। ऐसे में बिजली भी पर्याप्त नहीं मिल रही है। उपमहाप्रबंधक श्री निकरवार ने किसानों को आश्वस्त किया है कि वे आगामी दो दिन में तारारोड़ा फीडर की स्थिति देखने मौके पर पहुंचेंगे और वायदे के मुताबिक किसानों को दस घंटे बिजली देने की व्यवस्था कराएंगे। श्री से मिलने आए तारारोड़ा के किसान नवलकिशोर चौधरी ने कहा कि दो से तीन घंटे ही बिजली मिल रही है।
ग्राम चांदौन के किसान अभिषेक गालर का कहना है कि बिजली की समस्या नई नहीं है। इस वर्ष बारिश की कमी के कारण खेतों में धान की फसल नहीं बल्कि किसान के अरमान सूख रहे हैं। सोयाबीन की फसल से बीते कई वर्ष से किसान धोखा खा रहा है। लगातार कज में जा रहे किसान को धान की फसल से उम्मीद बंधी है और इससे उसकी माली हालत में सुधार की उम्मीद थी। लेकिन, मौसम ने फिर दगा दे दिया है। अभी धान को पानी की सख्त जरूरत है, ऐसे में पंप से पानी देकर फसल को बचाने का विकल्प भी बिजली नहीं मिलने से खत्म हो रहा है। बिजली नहीं मिली तो किसान बर्बाद हो सकता है। उन्होंने बताया कि खेत में करीब 900 एकड़ में खड़ी फसल सूख रही है। किसानों का कहना है कि करीब नब्बे फीसदी रकबे में खड़ी फसल पर पानी नहीं मिलने से संकट के बादल हैं। ग्राम चांदौन, तारारोड़ा, दमदम, धौखेड़ा आदि गांव के आसपास खड़ी धान की फसल पानी की कमी से सूखने लगी है। बारिश औसत से भी काफी कम हुई है, ऐसे में बिजली भी पर्याप्त नहीं मिल पा रही है। किसानों का कहा है कि बिजली विभाग पूरे साल बिजली की कटौती करता है, ऐसे में फसल के वक्त तो किसानों को पर्याप्त बिजली मिलनी चाहिए ताकि किसानों के सामने ऐसे अचानक प्राकृतिक संकट भी आए तो वह परेशान न हो।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this:
Narmadanchal

FREE
VIEW