सेमीफाइनल : हुए विवाद, रूड़की ने मैदान छोड़ा

इटारसी। नगर पालिका परिषद के तत्वावधान में जिला हॉकी संघ द्वारा गांधी मैदान पर खेली जा रही सुरेश दुबे स्मृति अखिल भारतीय महात्मा गांधी हॉकी प्रतियोगिता में आज खेले गए सेमीफाइनल मैच में आर्टिलरी नासिक और भोपाल एकादश को फाइनल का टिकट मिल गया है। दोनों टीमें रविवार को दोपहर 3 बजे से फाइनल में खेलेंगी।
अखिल भारतीय हॉकी प्रतियोगिता का पहला सेमीफाइनल विवाद के साथ संपन्न हुआ। बीईजी रूड़की और आर्टिलरी नासिक के बीच खेले गए पहले मैच में मध्यांतर तक दोनों टीमें एकदूसरे पर लगातार हमले करके भी गोल नहीं कर पायीं। मध्यांतर के बाद नासिक ने पहला गोल करके बढ़त बनायी। फिर रूड़की की टीम ने शॉर्ट कॉर्नर को गोल में बदलकर मैच 1-1 से बराबर कर लिया। 28 वे मिनट में नासिक ने छठा पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदला और गोल किया तो रूड़की की टीम ने इसका विरोध किया। रूड़की के खिलाडिय़ों ने पहले तो अम्पायर पर दबाव बनाने का प्रयास किया और जब अम्पायर ने अपने फैसले पर अडिग रहते हुए टीम को खेलने को कहा तो रूड़की के सभी खिलाड़ी फैसले के विरोध में मैदान से बाहर हो गए। इस दौरान करीब चार मिनट तक प्रतियोगिता समिति के सदस्य और तकनीकि समिति के सदस्यों ने रूड़की के कोच और कप्तान से बातचीत करके उनको मैदान पर आने का अनुरोध किया लेकिन खिलाड़ी नहीं माने और वे मैदान पर लौटने को राजी नहीं हुए। इस बीच मैच का समय भी खत्म हो गया और आखिरकर नासिक को 1 के मुकाबले दो गोल से विजेता घोषित कर दिया गया।
प्रतियोगिता का दूसरा सेमीफाइनल भोपाल एकादश और मध्य रेल मुंबई की टीम के बीच खेला गया। इस मैच में भी गोल को लेकर करीब छह मिनट विवाद चला। हालांकि टीमें विवाद के बावजूद मैदान पर खेलने को तैयार रहीं। भोपाल टीम ने खेल के दूसरे मिनट में ही शॉर्ट कॉर्नर से पहला गोल किया लेकिन मुंबई ने मैदानी गोल कर बराबरी कर ली। भोपाल ने फिर शॉर्ट कॉर्नर को गोल में बदलकर स्कोर 2-1 कर लिया। मध्यांतर के बाद दोनों टीमों ने एकदूसरे के गोलपोस्ट पर लगातार आक्रमण किए और कई अवसर मिले लेकिन अंतिम क्षणों में भोपाल को मिले शॉर्ट कॉर्नर को गोल में बदलकर टीम ने बढ़त बना ली। मुंबई को कई अवसर मिले लेकिन वे इसे गोल में नहीं बदल सके। इस तरह से भोपाल की टीम ने मैच जीतकर फाइनल में प्रवेश कर लिया।
अभा हॉकी प्रतियोगिता का फाइनल मैच रविवार को दोपहर बाद 3 बजे से होगा। प्रतियोगिता में विजेता को 51 हजार रुपए संग्राम सिंह तोमर की स्मृति में तोमर परिवार द्वारा दिए जाएंगे। दूसरा पुरस्कार सुरेश अग्रवाल की स्मृति में उनके पुत्र हिमांशु अग्रवाल द्वारा 31 हजार रुपए दिए जाएंगे। विजेता और उपविजेता को पं.शिवकुमार शर्मा की स्मृति में ट्राफी उनके पुत्र आशीष शर्मा द्वारा दी जाएगी। इसी तरह से सुधीर पाली बतरा की स्मृति में बतरा परिवार द्वारा व्यक्तिगत पुरस्कार दिए जाएंगे।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: