हवा में हॉकी उठाकर, अपने जांबाज साथी को दी अंतिम सलामी

हवा में हॉकी उठाकर, अपने जांबाज साथी को दी अंतिम सलामी

नम आंखों से दी अपने साथी हॉकी खिलाड़ी को अंतिम विदाई
इटारसी । रविवार को पिकनिक के दौरान हुए हादसे में दिवंगत स्पोट्र्स टीचर समीर सिंह को साथी हॉकी खिलाडिय़ों ने नम आंखों से अंतिम विदाई दी। समीर को उसके साथियों द्वारा दी गई विदाई देकर अंतिम यात्रा में शामिल लगभग हर शख्स की आंखें भी नम हो गई। अपने साथियों के बीच लोकप्रिय समीर भले ही इस दुनिया रुख़्सत कर गए, लेकिन आज भी उनके साथियों को भरोसा कर पाना मुश्किल हो रहा है।
समीर सिंह का अंतिम संस्कार आज शाम यहां श्मशानघाट शांतिवन में किया गया। मुखग्नि समीर के बड़े भाई शैलेन्द्र सिंह ने दी। शाम को जब समीर सिंह के तेरहवी लाइन स्थित निवास से अंतिम यात्रा शुरु हुई तो सड़क के दोनों ओर करीब सौ मीटर में आधा सैंकड़ा सीनियर और जूनियर हॉकी खिलाडिय़ों ने खड़े होकर हॉकी ऊपर करके सलामी दी।
वरिष्ठ हॉकी खिलाड़ी कन्हैया गुरयानी ने बताया कि सभी खिलाडिय़ों की इच्छा थी, क्योंकि समीर सबके दिलों में बसा है। उसकी लोकप्रियता इसी से पता चलती है कि अंतिम संस्कार में हॉकी के साथ ही फुटबाल, बास्केटबाल के खिलाड़ी भी बड़ी संख्या में शामिल हुए। इसके अलावा एनसीसी के साथी केडेट और जूनियर केडेट भी शामिल हुए।

CATEGORIES
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: