Category: बहुरंग

बहुरंग : शराब चीज ही ऐसी है …!

Manjuraj Thakur- 10/05/2020

- विनोद कुशवाहा पंकज उदास ने इस ग़ज़ल को जब अपना स्वर दिया था तो उन्होंने सोचा भी नहीं होगा कि आगे चलकर इसकी सार्थकता ... Read More

लॉक डाउन : मध्यमवर्गीय पारिवार का द्वन्द और समाधान

Manjuraj Thakur- 30/04/2020

बहुरंग में सतीश "सब्र' की कहानी हौंसला शहर में संघर्ष नामक कर्मठ, चिंतनशील मध्यमवर्गीय युवा है। उसकी पत्नी इक्षा पढ़ी लिखी विशुद्ध गृहिणी। संयम और ... Read More

संजय की ‘रामलीला’ के रंग : “देवदास” के संग

Manjuraj Thakur- 26/04/2020

आज बहुरंग में विनोद कुशवाहा के संग  संजय लीला भंसाली फ़िल्म इंडस्ट्री की पहली ऐसी शख़्सियत हैं जिन्होंने अपने साथ अपनी माँ का नाम हमेशा ... Read More

इति ‘कथा’ 

Manjuraj Thakur- 19/04/2020

- विनोद कुशवाहा इस स्तम्भ का नाम " बहुरंग " इसलिये रखा गया है क्योंकि इसमें आपको सप्ताह के हर रविवार को जीवन के विविध ... Read More

error: Content is protected !!