Breaking News

किसानों और बारातियों में झगड़ा

24 Harda 1सिराली में धारा 144 लागू
सिराली। मामूली बात पर हुए विवाद ने शुक्रवार को सिराली की शांत फिजा में जहर घोलने का काम किया। पहले पत्थर चले,फिर एक रायहोकर डंडे चलाने की कोशिश की गई। लोगों में भय पैदा करने के लिए नंगी तलवारे लहराई गई। बावजूद जब किसानों का हुजूम लगने लगा तब खुलेआम फायरिंग की गई है। समय रहते पुलिस बल मौके पर पहुंचा तब बिगड़ते माहौल में पाबंदी लगाई। तनाव दिखाई दिया तो प्रशासन ने धारा 144 लगा दी गई है। पुलिस के आला अधिकारियों ने सिराली में डेरा डाल रखा है। फिलहाल स्थित शांत है।
क्या है मामला
शुक्रवार को नगर के मंडी रोड पर रहने वाले मुन्ना के घर में लड़की की शादी थी जिसकी बारात महू इंदौर से आई थी। दोपहर बारह बजे के आसपास बारातियों के द्वारा मंडी के सामने मुख्य द्वार पर नाचने- गाने के कार्य प्रारंभ कर रोड को पूरी तरह से जाम कर दिया। तब मंडी में फसल बेचने आये किसानों ने अपनी ट्राली को मंडी के अंदर प्रवेश कराने का प्रयास किया तब बारातियों ने उसे रोकने की कोशिश की। इस पर किसान ने निवेदन किया कि मेरा तुलाने का नंबर आ गया है आप लोग थोड़ी सी जगह दे दो। लेकिन बारातियों ने किसान की बात नहीं मानी उल्टे किसानों से उलझ गए।
बात बात में बात इतनी आगे बढ़ी कि बरातियों ने संबंधित किसान के साथ मारपीट कर वाहन तोडफ़ोड़ करना शुरू कर दिया। स्थिति देख अन्य किसान बचाव के लिए आए तो बरातियों ने उनके साथ भी मारपीट और गाली गलौच की। तब किसान भी उग्र हो गये एवं मंडी में तुलाई का कार्य बंद करवा दिया जिससे मंडी प्रशासन के द्वारा पुलिस को सूचना दी गई कि मंडी के सामने जाम लग गया है । इसी दौरान किसान और बारातियों के मध्य झगड़ा हो गया है। गाली गलौच से बात मारपीट पर पहुंची तब बरातियों की तरफ अन्य लोग आ गए। जिन्होंने हथियारों को लहरना शुरू कर दिया। कुछ ने तलवारे निकाल ली। महौल देखकर किसान इक्कठे होने लगे तब फायरिंग होने आवाज भी सुनाई दी। बिगड़ते माहौल को शांत कराने के लिए पुलिस मौके पर पहुंची तब उत्पाती लोगों ने पुलिस को भी नहीं बख्शा। पहले पत्थर चले बाद में डंडे भी चले। बीच बचाव करने आए पुलिस के जवानों को भी उत्पातियों के कोपभाजान का शिकार होना पड़ा। उपद्रव में सिराली पुलिस का एक एएसआई सुनील गौर को भी सिर में चोट आई है।
पूर्व में भी हो चुकी घटना
पूर्व में भी इन्ही वलवाकारियो की वजह से सिराली में शांति व्यवस्था धवस्त हुई थी। उस समय भी इन अपराधियों के हौसले इतने बुलंद थे कि एएसआई रघुवंशी की पिटाई थाने में घुसकर की थी। लेकिन पुलिस ने अपनी बदनामी न हो इस कारण उक्त अपराधियों पर किसी भी प्रकार की कोई कार्यवाही नही की गई। इस बार भी पुलिस की कार्यप्रणाली नगरवासियों की समझ से परे हो गई है। जब किसानों के द्वारा थाने पहुॅचकर अपनी रिपोर्ट दर्ज कराने का प्रयास किया तब दूसरे पक्ष के लोग रसीद खॉ पिता गनीम खॉ के द्वारा पुलिस के सामने किसानों के साथ गाली गलौच की जा रही थी तब किसानों ने उसे पकडऩे का प्रयास किया लेकिन पुलिस के द्वारा उक्त व्यक्ति के विरूद्ध प्रकरण दर्ज नहीं किया।
मामले में प्रकरण दर्ज
उपद्रव के मामले में पुलिस ने दो प्रकरण दर्ज किए हंै। अपराध क्रमांक ८२/१५ में फरियादी विक्रम रामदास राजपूत निवासी घोघड़ा की शिकायत पर युसूफ खां, आसिफ, चांद खा, जावेद, आबिद, साबिर सहित अन्य के विरूद्ध धारा १४७, १४८, १४९, ३२३, ४२७, २९४, ५०६ के तहत प्रकरण दर्ज किया है। वहीं अपराध क्रमांक ८४/ में फरियादी रसीद खां पिता गनी खां निवासी सिराली की शिकायत पर अंकित, सुनील, उमेश यादव के विरूद्ध धारा २९४, ३२३, ५०६, ३४ के तहत प्रकरण दर्ज किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!