Breaking News

आगे बढऩे के लिए परिश्रम जरूरी : डोंगरे

आगे बढऩे के लिए परिश्रम जरूरी : डोंगरे

आगे बढऩे के लिए परिश्रम जरूरी : डोंगरे

शासकीय कन्या महाविद्यालय में प्रेरक व्यक्तित्व व्याख्यान    
इटारसी। आज के जीवन में व्यक्ति को सबसे पहले तनावमुक्त होकर खुश रहना सीखना चाहिए। स्वरोजगार के क्षेत्र में आगे बढऩे के लिए, छोटे स्तर से शुरू करते हुए आगे बढ़ें, एक दिन में कोई भी पैसे वाले नहीं बन सकते हैं। यह बात उद्योगपति एवं इंजीनियर कैलाश डोंगरे ने यहां शासकीय कन्या महाविद्यालय में प्रेरक व्यक्तित्व व्याख्यान कार्यक्रम के तहत बतौर मुख्य वक्ता कही।
शासकीय कन्या महाविद्यालय, इटारसी में स्वामी विवेकानंद कॅरियर मार्गदर्शन प्रकोष्ठ के माध्यम से, मासिक कैलेंडर का पालन करते हुए प्रेरक व्यक्तित्व व्याख्यान कार्यक्रम रखा गया था। मुख्य वक्ता के रूप में शहर के उद्योगपति एवं इंजीनियर श्री  डोंगरे को आमंत्रित किया गया। सर्वप्रथम कॅरियर प्रकोष्ठ प्रभारी डॉ. श्रीराम निवारिया ने श्री डोंगरे का पुष्पगुच्छ से स्वागत किया। उन्होंने कार्यक्रम का परिचय देते हुए बताया कि चार पुरूषार्थ में अर्थ भी एक पुरूषार्थ है। यह बेहतर जीवन के लिए बहुत जरूरी है। यह केवल पुरूषों के लिए ही नहीं है, बल्कि स्त्री-पुरूष दोनों के लिए है। बिना आर्थिक स्थिति सुधरे न तो स्वयं का विकास होगा न ही हम समाज का कोई भला कर पायेंगे।
मुख्य वक्ता श्री डोंगरे ने छात्राओं से कहा कि जिस भी क्षेत्र में जाना हो आप मुझसे मार्गदर्शन ले सकती हैं। यदि किसी भी छात्रा के कोई प्रश्न हों, जिज्ञासा हो तो बेहिचक प्रश्न पूछ सकती हैं। उन्होंने कहा कि परिश्रम जीवन में बहुत जरूरी है इसके बिना आगे बढऩा संभव नहीं है। कार्यक्रम का संचालन आनंद कुमार पारोचे ने किया। कार्यक्रम में श्रीमती हरप्रीत रंधावा, श्रीमती मंजरी अवस्थी, श्रीमती मीनाक्षी कोरी, डॉ. संजय आर्य, हेमंत गोहिया, सरिता मेहरा, कामधेनु पटोदिया, सुषमा चौरसिया एवं अधिक की संख्या में छात्राएं उपस्थित थीं।

error: Content is protected !!