Breaking News

सम सामयिक चेतना की कविताओं ने बांधा समां

सम सामयिक चेतना की कविताओं ने बांधा समां

सम सामयिक चेतना की कविताओं ने बांधा समां

इटारसी। अखिल भारतीय साहित्य परिषद नर्मदा संभाग एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद तहसील इटारसी के द्वारा बाल्मीकि जयंती के अवसर पर स्थानीय गॉधी भवन जयस्तंभ इटारसी में काव्य निशा का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि एवं फीरोजाबाद उत्तरप्रदेश के पूर्व सांसद प्रोफेसर ओमपाल सिंह निडर की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में व्ही.के.सीरिया प्राचार्य महात्मा गॉधी स्मृति स्नाकोत्तर महाविद्यालय इटारसी व श्रीराम निवारिया हिन्दी विभागाध्यक्ष शासकीय कन्या महाविद्यालय इटारसी तथा गोविंद सिंह संघ कार्यवाहक नर्मदापुरम की गरिमामयी उपस्थिति में आयोजित तथा वरिष्ठ कवि एवं पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी ब्रजकिशोर पटेल द्वारा संचालित इस काव्य अनुष्ठान में आगरा के युवा गीतकार प्रांजल सिंह के श्रंगारिक गीतों तथा सिवनी मालवा के वरिष्ठ कवि माखन मालवीय के रसभरे गीतों ने शरद ऋतु के मौसम को और भी सुहाना कर दिया।
गीतकार रामकिशोर नाविक की हिन्दी गजलों और साजिद सिरोंजवी और ममता बाजपेयी की उर्दू गजलों ने खूब वाहवाही लूटी। श्रीराम निवारिया की नई शैली की कविताओं को श्रोताओं की विशेष सराहना मिली।
अतिथि कवियों का स्वागत जी.पी.दीक्षित अखिल भारतीय साहित्य परिषद के अध्यक्ष ने किया तथा आभार प्रदर्शन कार्यकारी अध्यक्ष ब्रजमोहन सोलंकी ने किया। ”काव्य निशा” में भाग लेने वाले अन्य कवियों में प्रमुख रूप से जफर उल्लाह खान जफर, सतीश शमी, मनोज बाधवानी, भगवानदास बेधड़क, पं.आलोक शुक्ला अनूप, मदन बड़कुर तन्हाई, बी.के. पटेल, अविनेश चन्द्रवंशी चिरकुट, तरूण तिवारी तरू, विनय चौरे, हिमांशु सिंह बाबई, पुरूषोत्तम गौर होशंगाबाद, टी.एस.चोलकर, साहब सिंह भदौरिया, गुलाब भूमरकर, टी.आर.घोटे, आदि कवियों ने भाग लिया। उपस्थित गणमान्य श्रोताओं में मांगीलाल पटेल, मिट्टू भैया, दिनेष सिंह, ए.के.दुबे आदि उपस्थित रहे।

error: Content is protected !!