Breaking News

तांडव नृत्य, महाआरती एव भंडारे के साथ हुआ विश्राम

तांडव नृत्य, महाआरती एव भंडारे के साथ हुआ विश्राम

इटारसी। मानव जीवन में मित्रता के ज्ञान और मूल्यों से अवगत कराती है, भगवान श्रीकृष्ण के सुदामा चरित्र की मित्रवत लीला। उक्त उद्गार काशी बनारस की कथा वाचक सुश्री प्रियंका तिवारी ने वृंदावन गार्डन में आयोजित श्रीमद् श्री भागवत कथा समारोह के विश्राम दिवस पर व्यक्त किये।
श्रीकृष्ण सुदामा प्रसंग का वर्णन करते हुए प्रियंका तिवारी ने कहा कि जीवन में वैसे तो सभी संबंधों का निर्वाहन पूर्ण कर्तव्यता से करना चाहिए लेकिन मित्रता तो ऐसा महत्वपूर्ण संबंध है कि इसमे सत्यता भी होनी चाहिये, जो काम सगे संबंधों से नहीं होते उन्हें मित्रता पूर्ण कर देती है। मित्रता में पारदर्शिता होना चाहिए। सभी मित्रों को एक दूसरे से सिवाये मर्यादा के और कुछ नहीं छिपाना चाहिए। अंत में महाआरती में वरिष्ठ भाजपा नेता हेमा संदेश पुरोहित, पार्षद यज्ञदत्त गौर, कुलदीप रावत, गीता देवेन्द्र पटेल आदि ने शामिल हुए। आरती के बाद शिव तांडव नृत्य की प्रस्तुति एक कलाकार ने दी। विश्राम दिवस पर भंडारा में महाप्रसाद वितरित किया।

error: Content is protected !!