Breaking News

खबर अपडेट : वन विभाग टीम पर हमला मामले में पांच लोग हुए गिरफ्तार

खबर अपडेट : वन विभाग टीम पर हमला मामले में पांच लोग हुए गिरफ्तार

इटारसी। ग्राम जुझारपुर में सागौन की लकड़ी जब्त करने एसडीओ के नेतृत्व में गए फारेस्ट दल पर हथियारों से लैस सागौन तस्करों ने हमला कर दिया। हमले में तीन वनकर्मियों को घातक हथियारों और लाठी से पिटाई की चोट आयी हैं। हमलावरों ने दो सरकारी वाहनों को भी नुकसान पहुंचाया है। घायलों को सरकारी अस्पताल में भर्ती करके उपचार दिया जा रहा है जबकि एसडीओ वन डीके वासनिक पथरोटा पुलिस के साथ कार्रवाई में लगे हैं। पुलिस ने कुछ संदिग्धों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है। इस मामले में पथरोटा पुलिस ने पांच लोगों को  गिरफ्तार किया है।

जानकारी के अनुसार इटारसी के पास जुझारपुर गांव में लकड़ी कटाई की सूचना वन विभाग के कर्मचारियों का मिली थी। जिस पर एसडीओ डीके वासनिक के निर्देशन में फारेस्ट डिप्टी रेंजर सहित 15 सदस्यों का एक दल सुबह 11:30 से 12 बजे के बीच दो वारंट लेकर कार्रवाई के लिए गांव पहुंचा था। अचानक वन अमले को देखकर ग्रामीणों ने आपा खो दिया और वनकर्मियों पर हमला कर दिया। ग्रामीणों ने लाठी, तलवार और पत्थरों से वनकर्मियों पर वार किए। जिसमें दो कर्मी घायल हो गए, साथ ही उनके सरकारी वाहन को भी नुकसान पहुंचाया गया है।
मिली जानकारी के अनुसार आज सुबह करीब 11: 30 से 12 बजे के बीच एसडीओ डीके वासनिक के साथ एक दर्जन से अधिक वन कर्मियों की टीम ग्राम जुझारपुर लकड़ी तस्करों की तलाश में गई थी। गांव के स्कूल से कुछ आगे बढ़कर उन्होंने किसी का पता पूछा ही था कि कुछ देर बार करीब दस से पंद्रह लोग हथियारों से लैस हाथ में लाठियां और पत्थर भी लिए हुए आए और अचानक इनके वाहन पर हमला कर दिया। ग्रामीणों ने जमकर पत्थर बरसाए और लाठियां भी भांजी। वन विभाग का दल करीब तीन सरकारी वाहनों से गांव पहुंचे थे। वनकर्मियों के इस सीसीएफ स्क्वायड का नेतृत्व एसडीओ कर रहे थे जिसमें सुखतवा, इटारसी रेंज के कर्मचारियों के अलावा होशंगाबाद के कर्मचारी भी थे। हमले में डिप्टी रेंजर अजय श्रीवास्तव, वन रक्षक हेमराज राजपूत और सौरभ मित्रा घायल हुए हैं।
उल्लेखनीय है कि इससे पहले इसी गांव में लकड़ी तस्करों की टीम पथरोटा पुलिस दल पर भी करीब 9-10 वर्ष पूर्व हमला कर चुकी है। गांव के एक एरिए में वन टीम को अवैध लकड़ी होने की सूचना थी, जिस पर एसडीओ ने दलबल सहित छापामार कार्रवाई की योजना बनायी थी। एसडीओ ने टीम के सारे सदस्यों के मोबाइल पहले से ही अपने पास रख लिए थे ताकि कहीं से सूचना लीक न हो, लेकिन गांव पहुुंचने पर टीम पर हमला हो गया। अभी पथरोटा पुलिस की टीम एसडीओपी अनिल शर्मा के नेतृत्व में जुझारपुर में मामले की जांच और आरोपियों की तलाश में गयी है। टीम में पथरोटा थाना प्रभारी प्रशिक्षु आईपीएस अमित कुमार भी शामिल हैं।

इनका कहना है…!
वन विभाग की टीम पर कुछ ग्रामीणों ने हमला कर दिया था। वन विभाग की टीम दो लोगों का वारंट लेकर गांव में पहुंची थी। हमले में घायलों का मेडिकल कराया है, आरोपियों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।
अमित कुमार, थाना प्रभारी पथरोटा

error: Content is protected !!