Breaking News

लू से बचने के लिए आवश्यक सावधानी रखी जाए

लू से बचने के लिए आवश्यक सावधानी रखी जाए

होशंगाबाद। गर्म हवाओं से लू लगने की संभावना प्रबल होती है। लू व्यक्ति के लिए खतरनाक साबित हो सकती है। लू के प्रभाव को कम करने तथा लू की रोकथाम के लिए भारत सरकार के राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन ने आवश्यक सावधानी बरतने के उपाय की जानकारी दी है। लू से बचने के लिए व्यक्ति को जहा तक संभव हो कडी धूप में बाहर नहीं निकलना चाहिए, जितनी बार हो सके पानी पीना चाहिए प्यास लगे चाहे न लगे पानी अवश्य पीना चाहिए। व्यक्ति जब भी बाहर जाए तो पानी हमेशा साथ लेकर जाए। जब भी बाहर धूप में जाए तो हल्के रंग के और ढीले ढाले सुती कपडे पहनकर जाए और धूप का चश्मा इस्तेमाल करें,गमछे या टोपी से अपने सिर को ढके और हमेशा जूते या चप्पल पहनकर ही बाहर निकले।
जारी उपाय में बताया गया है कि यदि तापमान बढ़ा हुआ है तो व्यक्ति कठिन कार्य न करें, जहाँ तक संभव हो कड़ी धूप में बाहर के काम से बचे अगर व्यक्ति को बाहर जाना अनिवार्य है, तो वह टोपी ,गमछा या छाते का इस्तेमाल जरूर करें और गीले कपडे को अपने चेहरे पर,सिर व गर्दन पर रखे। हल्का भोजन करे,अधिक पानी की मात्रा वाले फल जैसे- तरबूज,खीरा,नीबू,संतरा का सेवन करें तथा ज्यादा प्रोटीन वाले भोजन का सेवन करें जैसे मॉस,मेवे जो शारीरिक ताप को बढाते है। व्यक्ति घर में बना पेय जैसे कि लस्सी,नमक चीनी का घोल,छाछ,नीबू पानी,आम का पना इत्यादि का नियमित सेवन करें। बच्चों और पालतू जानवरों को पार्क किए हुए वाहनों में अकेला न छोडे। जानवरों को छांव में रखे और उन्हें खूब पानी पीने को दे। व्यक्ति अपने घर को ठण्डा रखे,परदे शटर आदि इस्तेमाल करे और रात में खिडकिया खुली रखे स्थानीय मौसम के तापमान और आगामी तापमान में परिवर्तन के बारे में सतर्क रहे। यदि चक्कर आये तो डाक्टर से संपर्क करे।
राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान ने लू लगने के बाद बचाव के उपाय बताते हुए कहा है कि यदि व्यक्ति को लू लग जाती है तो उस व्यक्ति को छांव में लिटा दे। अगर तंग कपडे हो तो उन्हे ढीला कर दे या हटा दे। ठंडे गीले कपडे से शरीर पौछे या ठण्डे पानी से नहला दे इसके अलावा व्यक्ति को ओआर एस का घोल या नीबू पानी,नमक चीनी का घोल पीने को दे जो शरीर में जल की मात्रा को बढा सके। यदि व्यक्ति पानी की उल्टी करे या बेहोश हो जाए तो उसे कुछ भी खाने व पीने को न दे। लू लगे व्यक्ति की हालत में 1 घण्टे तक यदि सुधार न हो तो उसे तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाए।

error: Content is protected !!