आगजनी पर विस अध्यक्ष ने जतायी चिंता

इटारसी। विधानसभा अध्यक्ष डॉ.सीतासरन शर्मा ने रेलवे स्टेशन पर हुई घटना में साजिश की आशंका के साथ चिंता भी जतायी है। उन्होंने कहा कि बार-बार होने वाली घटनाओं से ऐसी आशंका है, और इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि रेलवे का मुख्य जंक्शन होने के साथ इटारसी रेलवे स्टेशन का सामरिक दृष्टि से भी महत्व है। यहां बार-बार होने वाली आगजनी की घटनाएं चिंतनीय है। इनकी उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए। इसके पीछे के कारण क्या हैं, यह हादसा है या साजिश इस पर गंभीरता से जांच करना होगा, क्योंकि इटारसी में अवैध वेंडर बड़ी संख्या में हैं। वे कहां से आए हैं, उनका क्राइम रिकार्ड क्या है, वे क्या करते हैं, ऐसी तमाम बातें हैं जिनको नजर अंदाज नहीं किया जा सकता है।
आज डॉ. शर्मा ने रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म 1 पर हुई आगजनी की घटना के बाद घटनास्थल का निरीक्षण कर रेलवे के स्थानीय अधिकारियों से चर्चा की है। अवैध वेंडरों के मामले में जीआरपी तथा आरपीएफ के अफसरों को कहा कि वे पहले भी कह चुके हैं और फिर कह रहे हैं कि इनको आप गंभीरता से लें। उन्होंने कहा कि आगजनी की घटना रेलवे स्टेशन के आरआरआई केबिन के अलावा प्लेटफार्म पर भी हुई है। उन्होंने आर्मी की ट्रेन में हुई आगजनी को भी गिनाया और कहा कि ये घटनाएं चिंता पैदा करती हैं।
विधानसभा अध्यक्ष डॉ. शर्मा ने प्लेटफार्म का निरीक्षण के बाद स्टेशन अधीक्षक के केबिन में बने अतिथि कक्ष में अधीक्षक सुनील जैन, जीआरपी के थाना प्रभारी बीएस चौहान, आरपीएफ इंस्पेक्टर धर्मपाल सिंह, डीसीआई अंकभूषण दुबे, मुख्य टिकट पर्यपेक्षक दीपक जेम्स से बातचीत में बताया कि उन्होंने रेलवे स्टेशन की सुरक्षा संबंधी चूक विषय पर रेलवे के जीएम और डीआरएम को भी पत्र लिखा है। पत्र में अवैध वेंडर्स सहित अन्य चिंताएं भी जतायी है। इसके अलावा वे राज्य स्तर और जिला प्रशासन के अधिकारियों से भी इस संबंध में चर्चा करेंगे। यहां यात्रियों की सुरक्षा की चिंता के अलावा सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण संस्थानों की सुरक्षा का मामला भी जुड़ा है, और इस जंक्शन पर चारों तरफ से ट्रेनें आती हैं, सुरक्षा में चूक नहीं होना चाहिए। अत: यहां अवैध वेंडरों पर सख्ती से लगाम लगायी जाने की जरूरत है।

प्रेस से बातचीत में ये कहा
डॉ. शर्मा ने प्रेस से बातचीत में कहा कि लगातार रेलवे स्टेशन पर होने वाली आगजनी की घटनाएं चिंताजनक हैं। यह सामरिक दृष्टि से भी चिंतनीय हैं। इसलिए इसकी उच्च स्तरीय जांच होना चाहिए। रेलवे के पास ऐसे हालात से तत्काल निबटने के लिए अपनी दमकल होना चाहिए। अवैध वेंडरों की मनमानी चिंतनीय है, ये शहर में आकर अपराध कर रहे हैं, इनका आधार कार्ड देखकर पते की जानकारी लें और क्राइम रिकार्ड देखें। यदि अपराधी हैं तो उनको वापस भेजें और नहीं हैं तो जो वैध तरीके से कारोबार कर रहे हैं उनके पास कार्य करें। हमने डीआरएम को भी पत्र लिखा है कि इसकी जांच में जीआरपी और आरपीएफ को शामिल करना चाहिए, केवल रेलवे के अफसर ही जांच न करें। स्टेशन के सामने पेट्रोल पंप है, होटलें हैं जिनमें गैस सिलेंडर होते हैं। ऐसे में यदि आग बढ़ती तो बड़ा नुकसान हो सकता था।

CATEGORIES
TAGS
Share This
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: