Breaking News

पश्चिम मध्य रेलवे के सीसीएम ने किया निरीक्षण

1 Itarsi-1पवन की पेंट्री जांची, प्लेटफार्म घूमे
इटारसी. पश्चिम मध्य रेलवे के चीफ कमॢशयल मैनेजर जीडी शर्मा ने आज जबलपुर से इटारसी के बीच पवन एक्सप्रेस के रसोईयान में न सिर्फ खाने की जांच की बल्कि खाने की गुणवत्ता ठीक नहीं पाए जाने पर उन्होंने इसके खिलाफ जांच के लिए आदेश दिए. श्री शर्मा सुबह जबलपुर से इस ट्रेन में इटारसी के लिए निकले, लेकिन उनके स्पेशल कोच आरए में नहीं बैठकर पेन्ट्री में इस भीषण गर्मीभर बैठकर खाने की गुणवत्ता, ट्रेन के भीतर चलने वाले वेंडरों की जांच की और कुछ यात्रियों से भी ट्रेन में मिलने वाले खाने की गुणवत्ता की जानकारी ली.
सूचना मिली तो सफाई शुरु
रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक एक पर स्थित खानपान रूम के संचालकों को उनके आगमन की सूचना पहले ही प्राप्त हो गई थी. इसलिए आज दोनों खानपान रूम के अलावा कुछ स्टाल्स में भी विशेष तौर पर सफाई की गई. इसी तरह जो ट्रालियां हर रोज रूम से बाहर आ आती थीं, वे सीमा के भीतर ही रहीं. आज इन खानपान लायसेंसियों ने अपने वेंडरों को खाना लेकर प्लेटफार्म पर घूमने से सख्त मनाही की थी. दोपहर 2 बजे तक किसी वेंडर ने प्लेटफार्म पर घूमकर खाना नहीं बेचा. अवैध वेंडर तो पूरी तरह से नदारद ही रहे.
उतरे और आरए में गए
सीसीएम श्री शर्मा पवन एक्सप्रेस की पेंट्री कार से निकले और इसी ट्रेन में सबसे पीछे लगे आरए में गए. इस दौरान उन्होंन प्लेटफार्म क्रमाक छह पर खानपान व्यवस्था और पानी की स्थिति का निरीक्षण भी चलते-चलते कर लिया. श्री शर्मा ने ओपन खोमचे वालों को खुला दाल-चावल बेचते हुए देखा तो स्टेशन प्रबंधक और उनके बीच आपस में कुछ बात हुई. स्टेशन प्रबंधक ने कहा कि सर, यही बंद होना चाहिए. इनसे ही सबसे अधिक गंदगी फैलती है. एक स्टाल पर खड़े होकर उन्होंने बिस्कुट पैकेट पर रेट देखा और अपने साथ आए उनके पीए से कहा कि वे यहां बिकने वाली सभी ब्रांडेड चीजों को सूचीबद्ध करें.
प्लेटफार्म पांच, छह और सात की है शिकायतें
रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म छह और सात की सर्वाधिक शिकायतें हैं. यहां दूषित खानपान, अवैध वेंडरों की मौजूदगी, पानी के नलों को बंद करने के साथ ही ओवर चार्जिंग की सबसे अधिक शिकायतें हैं. जब भी कोई अफसर आता है, ये सारी चीजें उन्हें यहां इसलिए नहीं मिलती है कि जबलपुर से अफसर के चलते ही यहां सूचना हो जाती है और जब तक अफसर यहां पहुंचता, सबकुछ व्यवस्थित हो जाता है. आज भी यही हुआ. सीसीएम घूमे, उनके साथ स्टेशन प्रबंधक तो थे ही, प्लेटफार्म क्रमांक एक और अन्य सभी प्लेटफार्मों के ठेकेदारों के कर्मचारी भी पल-पल की खबर अपने आकाओं को दे रहे थे. जब वे आरए में जाकर बैठे तो सबने चैन की सांस ली. इसके बाद भी खानपान ठेकेदारों और अवैध वेंडरों के जासूसों की पैनी नज़र आरए पर रही क्योंकि श्री शर्मा के निरीक्षण का अंदाज सभी जानते हैं. वे अचानक भी आरए से बाहर आ जाते हैं. आज भी उन्होंने साथ चल रहे कुछ अफसरों से कहा कि अब वे चले जाएंगे, कोई परेशान न हो. इधर अफसर गए कि श्री शर्मा ने प्लेटफार्म पांच पर आयी पातालकोट एक्सप्रेस के वक्त खानपान व्यवस्था का निरीक्षण शुरु कर दिया.
अचानक आएं तो बने बात
सीसीएम जीडी शर्मा के आगमन की सबको सूचना थी और सुबह से ही प्लेटफार्म पर सबकुछ व्यस्थित करने का काम चल रहा था. इसके अलावा ट्रेन में ही जबलपुर से यहां के खानपान माफियाओं के जासूस उनके साथ चल रहे थे और ट्रेन में होने वाली सारी गतिविधियों की जानकारी उनके आकाओं तक पहुंच रही थी. ये तो निर्धारित था, यदि श्री शर्मा या पमरे का कोई भी अफसर यदि यहां की वास्तविकता जानना चाहता है तो उसे अचानक छापामार कार्रवाई करनी होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!