Breaking News

पर्यटन और संस्कृति एक दूसरे के पूरक है

पर्यटन और संस्कृति एक दूसरे के पूरक है

कहा पर्यटन मंत्री श्री पटवा ने
निवासियों को सभी सुविधायें दिलाई जाएंगी
-लोक निर्माण विभाग मंत्री श्री सरताज सिंह
25 वां पचमढ़ी उत्सव
hbad271214 hbad271214 (1)पचमढ़ी(होशंगाबाद). 25 वां पचमढ़ी उत्सव आज रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ प्रारंभ हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं प्रदेश के लोक निर्माण विभाग मंत्री श्री सरताज सिंह एवं संस्कृति तथा पर्यटन विभाग के राज्य मंत्री श्री सुरेन्द्र पटवा ने पचमढ़ी उत्सव का शुभारंभ विधिवत फीता काटकर किया. उन्होनें उत्सव स्थल पर ग्रोमोद्योग, रेशम, मृगनयनी, हस्तशिल्प, हथकरघा एवं स्व सहायता समूहों द्वारा निर्मित उत्पादों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया. अतिथियों द्वारा उत्सव के शुभारंभ अवसर पर पचमढ़ी उत्सव पर आधारित एक पुस्तिका का विमोचन भी किया.
लोक निर्माण मंत्री श्री सरताज सिंह ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि पचमढ़ी के विकास के साथ-साथ यहां के स्थानीय निवासियों की सुविधाओं व उनके विकास का भी ध्यान रखना होगा. वन संरक्षण एवं वन्य प्राणी सरंक्षण के लिये बनाये गये अधिनियमों के कारण यहां के निवासियों के विकास कार्य बाधित हो रहे है अतः उच्च स्तर पर प्रयास कर यहां के निवासियों की समस्याओं के निराकरण किये जाने की आवश्यकता है. उन्होनें कहा कि पचमढ़ी में इतने अधिक पर्यटक स्थल है जितने प्रदेश के अन्य किसी पर्यटन केन्द्र में नहीं है. उन्होने कहा कि पचमढ़ी में पर्यटकों की संख्या बढ़ने से यहां रोजगार के अवसर बढेंगें जिससे स्थानीय नागरिकों की आय में भी वृद्धि होगी.
संस्कृति व पर्यटन मंत्री श्री पटवा ने अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि प्रदेश का प्राकृतिक सौंदर्य पूरे देश में जाना जाता है. पचमढ़ी को प्रदेश के सांस्कृतिक कैलेण्डर एवं पर्यटन कैलेण्डर में शामिल कर लिया गया है. प्रतिवर्ष अब पचमढ़ी उत्सव में पर्यटन विभाग अपनी भागीदारी करेगा. उन्होनें पिपरिया क्षेत्र के विधायक श्री नागवंशी की मांग पर पचमढ़ी का नाम मध्य प्रदेश गान में शामिल करने के लिये हर संभव प्रयास करने की बात कही. पर्यटन मंत्री श्री पटवा ने इस अवसर पर कहा कि पर्यटन और संस्कृति एक दूसरे के पूरक है. उन्होनें बताया कि वर्ष 2009 में प्रदेश में लगभग 1 करोड़ पर्यटक पर्यटन स्थलों के भ्रमण के लिये आये थे जबकि वर्ष 2014 में अभी तक प्रदेश में 6.24 करोड़ पर्यटक प्रदेश के पर्यटन स्थलों का भ्रमण कर चुके है. पर्यटन मंत्री श्री पटवा ने इस अवसर पर बताया कि पिछले वर्ष पचमढ़ी में 5 लाख पर्यटक आये थे जबकि इस वर्ष अभी तक 6 लाख से अधिक पर्यटक यहां आ चुके है. पचमढ़ी में पर्यटन विभाग द्वारा इस समय लगभग 7 करोड़ रूपये से अधिक के विकास कार्य कराये जा रहे है.
राज्यसभा सांसद श्री अनिल माधव दवे ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि पचमढ़ी के आसपास शिव मंदिरों की भरमार है. पचमढ़ी में हवाई पट्टी की सुविधा भी उपलब्ध है, अतः यहां विदेशी पर्यटकों की संख्या में वृद्धि की काफी संभावना है इस दिशा में प्रयास किये जाने चाहिए.
क्षेत्रीय सांसद श्री राव उदय प्रताप सिंह ने इस अवसर पर संबोधित करते हुए कहा कि पचमढ़ी पूरे देश में विख्यात है. उन्होनें कहा कि पचमढी उत्सव का आयोजन एक सराहनीय प्रयास है, उन्होने आशा प्रकट की कि इस आयोजन से पचमढ़ी में पर्यटकों की संख्या में और अधिक वृद्धि होगी.
पिपरिया विधायक श्री ठाकुर दास नागवंशी ने सभी को नववर्ष की शुभकामनाऐं दी तथा पचमढ़ी उत्सव में अतिथियों का स्वागत किया.
कार्यक्रम के प्रारंभ में कमिश्नर श्री बाथम ने अपने स्वागत उद्बोधन में कहा कि पचमढ़ी उत्सव की 25वीं वर्षगाठ को विशेष समारोहपूर्वक मनाने का प्रयास किया गया है. कलेक्टर श्री भोंडवे ने पचमढ़ी उत्सव से संबंधित प्रतिवेदन पढ़ा तथा बताया कि इस वर्ष रजत जयंती वर्ष होने के कारण पचमढ़ी उत्सव को एक नये अंदाज में मनाने का प्रयास किया गया है. उन्होने बताया कि पचमढ़ी उत्सव में धूपगढ़ की शाम, गोल्फ टूर्नामेंट, जलक्रीड़ा एवं साहसिक खेलों को भी शामिल किया गया है. उन्होने बताया कि पचमढ़ी का गोल्फ कोर्स मध्य भारत का एकमात्र गोल्फकोर्स है. ब्रिटिश शासन काल में स्थापित गोल्फकोर्स आज भी बेहतर स्थिति में है. उन्होने बताया कि इस वर्ष बायसन लॉज में वन्य जीवों पर आधारित फिल्मोत्सव भी आयोजित किया जा रहा है. कलेक्टर श्री भोंडवे ने बताया कि अगले वर्ष से पचमढ़ी उत्सव के अतिरिक्त समर फेस्टीवल भी आयोजित किया जावेगा. कार्यक्रम का संचालन श्री सुनील बाजपेयी ने किया.
पचमढ़ी उत्सव के प्रथम दिवस पर भारिया जनजाति का सामूहिक लोकनृत्य, गोंड जनजाति का गुदुम्बा लोक नृत्य, निमाड़ अंचल का गणगौर लोकनृत्य तथा आकृति मेहरा, अखिलेश तिवारी एवं प्रसन्न राव एवं उनके सहयोगियों द्वारा सुर संगीत का कार्यक्रम प्रस्तुत किया.

दीवार लेखन एवं स्लोगन प्रतियोगिता  हुई
उत्सव के प्रथम दिन केंट परिसर में पर्यावरण बचाओ विषय पर दीबार लेखन व स्लोगन लेखन प्रतियोगिता आयोजित हुई. जिसमें स्कूली विघार्थियों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया. कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने प्रतियोगिता स्थल का भ्रमण कर उत्साह बढ़ाया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!