बनिये किसी की जिंदगी का गुड सेमिरिटन

बनिये किसी की जिंदगी का गुड सेमिरिटन

  • नेक व्यक्ति को पुरस्कार की राशि प्रति घटना 5000 रुपये दी जाने की योजना

पिपरिया। पुलिस मुख्यालय के निर्देशानुसार एवं पुलिस अधीक्षक नर्मदापुरम गुरकरन सिंह (Gurkaran Singh), अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नर्मदापुरम आशुतोष मिश्रा (Ashutosh Mishra) ने जिले में पदस्थ समस्त राजपत्रित अधिकारियों एवं थाना प्रभारियों को आये दिन हो रही दुर्घटनाओं में घायल व्यक्तियों को तत्काल मदद मिल सके, ऐसे लोगों को प्रोत्साहित करने के लिये निर्देशित किया था।

इसी तारतम्य में सड़क दुर्घटनाओ में उपयुक्त समय में घायल को इलाज नहीं मिलने से मृत्यु में बढ़ोतरी होने के कारण वर्ष 2021 में गुड सेमिरिटन योजना (Good Samaritan Scheme) की शुरूआत की गई है। योजना में ऐसे नेक व्यक्ति को जिसने किसी घायल दुर्घटना (मोटर वाहन से जुड़ी) के अति गंभीर घायल व्यक्ति को तत्काल सहायता प्रदान करके तथा दुर्घटना के गोल्डन आवर के भीतर उसे अस्पताल (Hospital)/ट्रामा केयर सेंटर (Trauma Care Centre) पहुंचाकर जान बचाई हो, जिसमें ऐसे प्रत्येक नेक व्यक्ति को पुरस्कार की राशि प्रति घटना 5000 रुपए दी जाने की योजना है। ऐसे व्यक्तियों को उनकी इच्छानुसार कानूनी औपचारिकता से भी अलग रखा जायेगा जिसके कारण आमजन घायलों की सहायता करने में कतराते हंै। इसी कारण घायलों को समय पर इलाज नहीं मिल पाता है।

वर्तमान में सडंक दुर्घटनाओं में मृत्यु की दर बढ़ी है। आंकड़ दर्शाते हैं कि आमजन को इस योजना के संबंध में जागरूक किया जाता तो इसकी प्रबल संभावना होती कि आमजन घायलों की सहायता करने में नहीं कतराते। घायलों को सही समय पर इलाज हेतु अस्पताल पहुंचाते जिससे सड़क दुर्घटना में जाने वाली कई मृतकों की जान बचाई जा सकती थी।

इस योजना का उद्देश किसी व्यक्ति को बिना किसी भुगतान ईनाम के घायल व्यक्ति से बिना विशेष संबंध के सड़क दुर्घटना या आपातकालिन स्थिति में घायल व्यक्ति को तत्काल चिकित्सकीय सहायता या आपातकालीन देखभाल प्रदान करने के लिये स्वेच्छा से आगे आने के लिये प्रेरित करना है। गुड सेमिरिटन योजना, गुड सेमिरिटन (नेक व्यक्ति) को सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति के जीवन को बचाने के लिये उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों पर उत्पीडऩ से बचाता है, और उनकी इक्छा के विरूद्ध कानूनी औपचारिकताओं से मुक्त करना है।

Royal
CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

error: Content is protected !!