दुर्गा उत्सव में रोशनी की बरसात, लगता नहीं हुई है रात

दुर्गा उत्सव में रोशनी की बरसात, लगता नहीं हुई है रात

पुरानी इटारसी का दुर्गा उत्सव है वर्षों से भक्तों की पसंद

इटारसी। शाम को 6 बजे के बाद अंधेरा होने की शुरुआत होती है और 7 बजे के बाद पुन: दिन का नजारा बन जाता है। सड़कों के किनारे, गलियों में, मैदानों में रोशनी की बरसात देख लगता है कि अभी रात ही नहीं हुई है। नवरात्र के दिनों में मां के पंडाल जगमग और आस्था का सैलाब उमड़ रहा है। शहर की नींव रखने वाले क्षेत्र पुरानी इटारसी में नवरात्र में दुर्गा उत्सव देखते ही बनता है। कोरोना के प्रतिबंधों की मजबूरियों के बावजूद आस्था इतनी कि लोग मां पर भरोसा करके निकल रहे हैं और रात में सड़कों पर मेले का दृश्य बन रहा है। पुरानी इटारसी से ही शहर की शुरुआत हुई और यहीं से दुर्गा उत्सव का आगाज भी माना जा सकता है। यह शहर का वह हिस्सा है, जहां मां भगवती, देवी महाकाली, देवी सरस्वती, भोलेनाथ, साईं बाबा की प्रतिमाएं स्थापित होती हैं और लोग यहां जाकर प्रतिमाओं के दर्शन करने के लिए खुद को रोक नहीं पाते हैं। जब ओवरब्रिज नहीं बना था और इतने साधन नहीं थे, जब भी पैदल और सायकिलों से पुरानी इटारसी का दुर्गा उत्सव देखने के लिए सबसे अधिक भक्त पहुंचते थे और यह दीवानगी आज भी कायम है।

जगमग पंडालों में आस्था का सैलाब है और इसमें गोते लगाते श्रद्धालुओं का रेला। दिन के उजाले को मात देती रंग बिरंगे विद्युत बल्वों की रोशनी आनंद को दोगुना बना रही है। मां जगदंबे का जयकारा लगाते भक्त एक से दूसरे पंडाल तक सड़कें नाप रहे हैं। सड़कों पर ऐसा मेले सा नजारा जिसमें बच्चे का मन खिलौने और गुब्बारों की दुकाने देख मचल रहा है तो महिलाओं को चाट, पानीपुरी और पकोड़ों के ठेले तक खींच ले जाता है। उत्साह इतना कि पैदल चलने पर भी थकान छू नहीं रही है।
दुर्गा उत्सव पर झांकियां देखने निकलने वालों में सबसे अधिक महिलाएं और बच्चे हैं। उत्सव के रंग में भंग न पड़े, इसके लिए पुलिस बल भी मुस्तैद है तो अधिकारी भी सड़कों पर लगातार गश्त कर रहे हैं। आला अधिकारियों की तीखी नजरें हैं ताकि किसी प्रकार की अनहोनी न हो। आठ दिन शांति से गुजर गये, शेष दो दिन का उत्सव और है, फिर दशहरे पर समापन हो जाएगा।

सबसे सुंदर और आकर्षक काली जी की प्रतिमा

सरगम क्लब, संसार से कोरोना को निकालते हुए विघ्नहर्ता

शिव समिति द्वारा, शंकर, पार्वती की प्रतिमा

महादेव, पुरानी इटारसी

संघर्ष सांई समिति द्वारा सांई बाबा की प्रतिमा

नवयुवक दुर्गा समिति, देवी प्रतिमा

देवी प्रतिमा, पुरानी इटारसी

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!