कचारगढ़ के लिए कल निकलेंगे आदिवासी तीर्थयात्री

कचारगढ़ के लिए कल निकलेंगे आदिवासी तीर्थयात्री

इटारसी। आदिवासियों के पवित्र स्थान कचारगढ़़ (Kachargarh) के लिए इस वर्ष पदयात्रा कल 12 फरवरी को दोपहर 12 बजे तिलकसिंदूर (Tilaksindoor) में भगवान बड़ादेव (Lord Baradeo) की पूजा के बाद प्रारंभ होगी।यहां से प्रारंभ पदयात्रा शंकर मंदिर पथरोटा (Pathrota) तक पहुंचेगी। पदयात्रा में 20 किलोमीटर लंबा सफर किया जाएगा। आयोजन समिति के सदस्य विक्रम परते (Vikram Parte) ने बताया कि पदयात्रा में नर्मदापुरम (Narmadapuram) जिले के आदिवासी रैली निकालेंगे। तीर्थयात्रा का सफर इटारसी (Itarsi) से ट्रेन से शुरू होगा इसमें समाज के 25 लोग सम्मिलित होंगे, बाकी लोग इटारसी से वापस अपने घरों के लिए वापसी करेंगे।

ज्ञात हो कि आदिवासी परंपरा और उसके प्राचीन इतिहास के मुताबिक कचारगढ़ आदिवासियों का पवित्र स्थान है। यहां आदिवासियों के एक देव से 12 देवता तक का उद्गम स्थान माना जाता है। प्रतिवर्ष पवित्र भूमि पर दाई काली कंकाली का मेला आयोजन किया जाता है, जिसमें दूर-दूर एवं क्षेत्र में रहने वाले आदिवासी लोग अपनी परंपरागत वेशभूषा के साथ हिस्सा लेते हैं।
गोंदिया (Gondia) जिले की सालेकसा (Saleksa) तहसील में प्रकृति की गोद में स्थित कचारगढ़ आदिवासियों का पवित्र तीर्थस्थल है। यह भू-तल से 518 मीटर की ऊंचाई पर सतपुड़ा (Satpura) की पहाड़ी पर स्थित है। यहां विशाल गुफा है, जिसे एशिया ( Asia) की सबसे बड़ी गुफा होने का दावा किया जाता है।
CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!