योग दिवस से पहले रेलवे ने किया अभ्यास सत्रों का आयोजन

योग दिवस से पहले रेलवे ने किया अभ्यास सत्रों का आयोजन

भोपाल/इटारसी। भारतीय रेलवे (Indian Railways) द्वारा योग के लाभों के संबंध में जागरूक करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) से पहले सभी क्षेत्रीय रेलों, मंडलों, यूनिटों, रेलवे के सार्वजनिक उपक्रमों में योगसत्रों का आयोजन किया। स्वस्थ और निरोगी जीवन के लिए रेल कर्मियों को योगाभ्यास हेतु प्रोत्साहित करने के लिए भारतीय रेल ने आज 24 अप्रैल 2022 को नई दिल्ली (New Delhi) के करनैल सिंह स्टेडियम (Karnail Singh Stadium) में योग अभ्यास सत्र का आयोजन किया। यह कार्यक्रम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से एक कदम पहले के रूप में आयोजित किया गया है।इस सत्र में रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव (Railway Minister Ashwini Vaishnav), रेलवे बोर्ड अध्यक्ष एवं सीईओ वीके त्रिपाठी (Railway Board Chairman and CEO VK Tripathi) एवं रेलवे बोर्ड के अन्य सदस्य, उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल, उत्तर रेलवे के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों, खिलाडिय़ों और रेल कर्मचारियों ने भाग लिया। सत्र के दौरान पतंजलि योगपीठ के दिल्ली प्रांत के प्रभारी श्याम गुप्ता के मार्गदर्शन में योग आसन किए। इसी प्रकार के सत्रों का आयोजन अन्य क्षेत्रीय रेल मुख्यालयों, मंडलों, यूनिटों, कारखानों और रेलवे के सार्वजनिक उपकरणों में भी किया। भारत में प्राचीन काल से ही योग स्वस्थ जीवन का आधार रहा है। यह शरीर और मन के बीच समन्वय लाता है। नियमित रूप से योग करने से तनाव दूर करने, लचीलापन बढ़ाने, शरीर को मजबूती प्रदान करने और भावनात्मक स्थिरता, एकाग्रता व सकारात्मकता का विकास होता है। यह सदाचारिता को विकसित करके जीवन की गुणवत्ता बढ़ाता है। पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून, 2015 को मनाया गया। योगासनों के समग्र और सूक्ष्म स्वरूप ने कोरोना महामारी के पश्चात् रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और मानसिक व भावनात्मक स्थिरता का विकास करने में मदद की है। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से एक कदम पहले भारतीय रेलवे ने योग के लाभों के संबंध में जागरूकता फैलाने के लिए इस सत्र का आयोजन किया।
इस अवसर पर रेलमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद ने पश्चिमी दुनिया को योग से परिचय कराया। विश्व को एक बार फिर से योग के प्रति जागरूक करने और मानवता को इस प्राचीन अभ्यास का ज्ञान देने के लिए, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने संयुक्त राष्ट्र जनरल एसेम्बली (United Nations General Assembly)में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव दिया। अब सारी दुनिया में बहुत लोग योग करते हैं और अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। लोग यह बात जान गये हैं कि अधिकतर स्वास्थ्य संबंधी विकार आधुनिक शहरी जीवन शैली का परिणाम है। तनाव, अनियमित आदतों और पर्यावरण के प्रदूषण से मनुष्य के जीवन की गुणवत्ता प्रभावित हो रही है। आंतरिक समन्वय लाने, रोगों का मुकाबला करने के लिए योग एक प्रभावी माध्यम है। इस योग सत्र से निश्चित रूप से रेल कर्मचारियों को लाभ पहुंचेगा।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!