अब समझाईस नहीं, पांच फरवरी से नहीं मानें तो जुर्माना देने रहें तैयार
Now there is no explanation, if you do not agree from February 5, then be ready to pay the fine.

अब समझाईस नहीं, पांच फरवरी से नहीं मानें तो जुर्माना देने रहें तैयार

इटारसी। पॉलिथिन, सिंगल यूज प्लास्टिक पर नगर में वर्षों से रोक लगायी गयी है, बावजूद इसके बाजार में यह चलन में है। प्रशासन ने अब ऐसे व्यापारियों पर सख्त कार्रवाई करने, जब्ती और जुर्माना लगाने की मुहिम छेडऩे का मन बना लिया है। दुकान पर इनका उपयोग बंद करने के लिए आज व्यापारियों को 5 फरवरी तक का वक्त दिया है, इसके बाद कार्रवाई होगी। सड़क पर निर्माण सामग्री मिली तो जब्त की जाएगी और जुर्माना भी लगेगा। खाली प्लाट पर गंदगी मिली तो प्लाट मालिक को भी जुर्माना देना होगा। प्रशासन वर्षों से समझाईश दे रहा है, अब किसी प्रकार की समझाईश के मूड में नहीं है, अब सख्त कार्रवाई ही की जाएगी।
आज स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के अंतर्गत शहर के सभी व्यापारिक संगठनों के प्रतिनिधियों को बुलाकर इस बात की जानकारी दे दी गई है कि वे सभी नियमों का पालन करें और किसी भी प्रकार से अप्रिय स्थिति नहीं आने दें। श्री द्वारिकाधीश मंदिर परिसर में हुई बैठक में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व मदन सिंह रघुवंशी, मुख्य नगर पालिका अधिकारी श्रीमती हेमेश्वरी पटले, स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के ब्रांड एम्बेसडर जगदीश मालवीय, (Subdivisional Officer Revenue Madan Singh Raghuvanshi, CMO Smt. Hemeshwari Patle, Brand Ambassador of Swachh Survekshan 2022 Jagdish Malviya) व्यापारिक संगठनों से धर्मदास मिहानी, राजेश वर्मा मुन्ना भट्टी, राहुल चौरे, पूर्व पार्षद श्रीमती प्रियंका बसंत चौहान, नर्मदांचल ग्रुप से सुश्री मंजू ठाकुर, स्वच्छता निरीक्षक आरके तिवारी सहित अनेक व्यापारी मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन देवेंद्र पटेल ने किया। इस मौके पर व्यापारियों को स्वच्छता की शपथ दिलाई।



बैठक का उद्देश्य बताया

सीएमओ श्रीमती हेमेश्वरी पटले (CMO Smt. Hemeshwari Patle) ने उपस्थित व्यापारियों को बैठक का उद्देश्य बताते हुए कहा कि मुख्यत: तीन बिन्दुओं हैं। पहला तो सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध है, व्यापारियों को इसका प्रयोग पूरी तरह से बंद करना है। दूसरा, शासन ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 के अंतर्गत ‘स्वच्छ प्रतिष्ठान सर्वे’ का कार्यक्रम दिया है। यह 26 जनवरी से 10 फरवरी तक चलेगा। अपने प्रतिष्ठान के सामने डस्टबिन अनिवार्य रूप से रखना है। इस दौरान आपको इसमें शामिल होकर अपने प्रतिष्ठान को स्वच्छ रखना है। जो प्रतिष्ठान सर्वे में स्वच्छता के मापदंड को पूरा करते हुए मिलेंगे, उनको पुरस्कृत भी किया जाएगा। तीसरा है ‘मास्क ही है जिंदगी।’ (‘Mask is life.’) व्यापारियों को दुकानों पर मास्क लगाये रखना है, कर्मचारियों को मास्क लगाना है और लोगों को इसके लिए प्रेरित भी करना है।



हमें खुद को बदलना होगा

एसडीओ राजस्व मदन सिंह रघुवंशी ((Subdivisional Officer Revenue Madan Singh Raghuvanshi) ने व्यापारियों से कहा कि हमें खुद को बदलना होगा, तभी बदलाव हो सकता है। केवल प्रशासन के भरोसे सब ठीक नहीं हो सकता, अपनी नैतिक जिम्मेदारी का निर्वहन करेंगे तो बदलाव भी महसूस करेंगे। स्वच्छता से हम स्वयं अपने को स्वस्थ रख सकेंगे और शहर को साफ-सुथरा रख सकेंगे। उन्होंने कहा कि कचरा गाड़ी आती है, लेकिन कुछ लोग इसमें कचरा न डालकर सड़क पर ही फैंकते हैं, ऐसे लोगों को बदलना होगा, अन्यथा प्रशासन अपनी कार्रवाई करेगा। दुकान के बाहर डस्टबिन रखें, एक कार्टून में कचरा रखें, गाड़ी निकल गयी तो उसमें कचरा रखकर बाहर रखें, जब गाड़ी आए तो डालें। लोगों को थैला लेकर आने की आदत व्यापारियों को डालनी होगी। पॉलिथिन में सामान नहीं देंगे तो लोग थैला लाएंगे।

ये सुझाव मिले बैठक में

स्वच्छता के ब्रांड एम्बेसडर जगदीश मालवीय ( Brand Ambassador of Swachh Survekshan 2022 Jagdish Malviya) ने कहा कि प्रशासन आपसे अनुरोध कर रहा है, जिस पर हमें अमल करना है। हमें आपस में सहयोग करके हल निकालना है।
गोविन्द बांगड़ (Govind Bangad) ने कहा, जो लोग कचरा फैंकते हैं, उन्हें दंडित किया जाए, हम भी व्यापारियों को जागरुक करेंगे।
दीपक अग्रवाल (Deepak Harinarayan Agrawal) ने कहा कि प्लास्टिक ऐसी चीज है, जो कभी खत्म नहीं होती। इसका प्रयोग रोकना केवल प्रशासन की नहीं हमारी भी नैतिक जिम्मेदारी है। ऐसा काम करें कि प्रशासन को जुर्माना करने की जरूरत ही न पड़े। स्वच्छता शहर का दर्पण होता है, हमें यह समझाना होगा।
कन्हैया गुरयानी (Kanhaiya Guryani) ने कहा, पॉलिथिन प्रतिबंधित है, प्रशासन को कार्रवाई करना चाहिए।
कर्मवीर गांधी ने कहा जो गंदगी करते हैं, वीडियो बनाकर दंडित करें।
अर्जुन भोला (Arjun Bhola) ने सुझाव दिया कि व्यापारी दुकान पर लिखें कि पॉलिथिन प्रतिबंधित है, हम पॉलिथिन में सामान नहीं देते, ग्राहक अपने साथ झोला लेकर आये। राजेश गुप्ता, दीनू यादव, दशरथ चौधरी, कैलाश नवलानी ने भी अपने सुझाव रखे।

CATEGORIES
Share This

COMMENTS

error: Content is protected !!