इन पिता-पुत्र ने छीना था महिला के गले से मंगलसूत्र

इन पिता-पुत्र ने छीना था महिला के गले से मंगलसूत्र

– चश्मे की दुकान लगाने वाला ईरानी निकला लुटेरा
इटारसी। नगर की अजयवचन कालोनी (Ajayvachan Colony) में महिला के गले से करीब ढाई तौला का मंगलसूत्र छीनकर भागने वाला बदमाश पुलिस की गिरफ्त में आ गया है। यह वारदात होशंगाबाद में चश्मे की दुकान लगाने वाले ने अपने नाबालिग पुत्र के साथ की थी। घटना के बाद ये लोग सूरजगंज चौराह (Surajganj Square), एमजीएम कालेज (MGM College) मार्ग से होशंगाबाद की ओर भाग गये थे। मालाखेड़ी में ये किराये से रहते हैं और मूलत: शहडोल (Shahdol) जिले के रहने वाले हैं।आज दोपहर यहां पुलिस थाने में घटना की जानकारी मीडिया (Media) को देते हुए एसपी डॉ.गुरुकरण सिंह (SP Dr. Gurukaran Singh)ने बताया कि घटना के बाद से लगातार नाकाबंदी और इनकी तलाश की जा रही थी और इनका हुलिया जब होशंगाबाद में पता किया तो इनकी पहचान शाबर (Shabar) पिता युशफ जाफरी ईरानी (Yushaf Jafri Irani), उम्र 38 साल, निवासी बुढार जिला शहडोल एवं वर्तमान पता पटवारी कालोनी नर्मदापुरम के रूप में एवं पीछे बैठ कर चेन झपटने वाला उसके नाबालिक पुत्र के रूप में हुई।
उल्लेखनीय है कि 03 मार्च 2022 को बुजुर्ग महिला श्रीमती निर्मला (Smt. Nirmala) पति बसंत लालवानी (Basant Lalwani) उम्र 66 साल निवासी अजय वचन कालोनी सूरजगंज इटारसी अपने घर के सामने चबूतरे पर दोपहर करीब 02.20 बजे बैठी थी, तभी एक काले रंग की मोटर सायकल (Motor Cycle) से दो अज्ञात व्यक्ति आकर महिला को साहू जी का मकान कहां है, पूछकर बातों में बहलाकर डरा धमकाकर उसके गले में पहना एक सोने के मंगल सूत्र वजनी करीब 27 ग्राम को लूटकर मोटर सायकल से भाग गये थे। उक्त घटना की रिपोर्ट थाना इटारसी (Itarsi) में दर्ज कर जांच की।

दिन दहाड़े हुई थी वारदात

उक्त लूट की घटना एक वृद्ध महिला के साथ दिन दहाड़े बीच शहर में घटित हुयी थी। अत: पुलिस के लिये उक्त घटना एक बड़ी चुनौती के रूप में सामने आयी जिसकी गंभीरता देखते हुये मौके पर पुलिस अधीक्षक डॉ. गुरुकरण सिंह एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नर्मदापुरम अवधेश प्रताप सिंह तत्काल घटना स्थल पहुंचकर पीडि़त पक्ष से चर्चा कर घटना की पूर्ण जानकारी प्राप्त कर अनुसंधान के संबंध में अलग अलग टीम तैयार कर टीम को दिशा निर्देश देकर अलग अलग रवाना की गयी। उक्त घटना की एवं आरोपियों के संबंध में जानकारी उपलब्ध कराने वाले के लिये नगद दस हजार रुपये इनाम की घोषणा की गयी।

सीसी टीवी कैमरों से मिली मदद

अनुसंधान के लिये अलग-अलग गठित टीम ने घटना स्थल एवं आसपास के लोगों से पूछताछ की तो आरोपियों के हुलिया के दो व्यक्ति एक काले रंग की बजाज कंपनी की सीटी-100 मोटर सायकल से घटना स्थल से सूरज गंज चौक तरफ तथा सूरजगंज चौक से एमजीएम कालेज से खेड़ा होशंगाबाद की तरफ भागते दिख रहे थे जिनके हुलिये एवं पहने गये कपड़ों के आधार पर होशंगाबाद जाकर लोगों से चर्चा की गयी तो लोगों ने बताया कि उक्त हुलिया के दो व्यक्ति मालाखेड़ी चक्कर रोड पर चश्मे की दुकान लगाते हैं। दोनों संदेहियो में मोटर सायकल चलाने वाला शाबर पिता युशफ जाफरी जाती ईरानी उम्र 38 साल निवासी बुढार जिला शहडोल एवं वर्तमान पता पटवारी कालोनी नर्मदापुरम के रूप में एवं पीछे बैठ कर चेन झपटने वाला उसके नाबालिक पुत्र के रूप में पहचान की स्थापित की गयी।

पूछताछ में अपराध स्वीकारा

आरोपियों को अभिरक्षा कर बारीकी से पूछताछ पर आरोपी शाबर ने अपने पुत्र के साथ घटना करना स्वीकार किया तथा घटना में लूटा गया मशरूका एक सोने का मंगलसूत्र वजन करीब 27 ग्राम कीमती करीब एक लाख तीस हजार का एवं घटना में प्रयुक्त मोटर सायकल बजाज कंपनी की सीटी-100 एमपी 04 एनटी 8329 कीमती करीब 40000 रुपए कुल कीमती करीब एक लाख 70 हजार रुपए का बरामद कराया। पुलिस ने घटना से 36 घंटे के भीतर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

पूर्व में ही अपराध दर्ज

आरोपी शाबर जाफरी ईरानी समुदाय का सदस्य है, जो कि मूलत: बढार जिला शहडोल का निवासी है तथा पिछले लगभग दस वर्षों से नर्मदापुरम में अलग-अलग स्थानों पर किराये के मकान में रहकर चश्मा व नग बेचने का काम करता है। शाबर जाफरी पूर्व में भी थाना बढार एवं शहडोल में दिन दहाड़े घटना घटित कर चुका है तथा वर्ष 2019 में थाना कोतवाली जिला शहडोल एवं वर्ष 2020 में थाना बुढ़ार में गिरफ्तार हो चुका है। जो प्रकरण में न्यायालय में विचाराधीन है। उक्त आरोपी से थाना क्षेत्र में हुयी पूर्व की वारदातों के संबंध में पूछताछ की जा रही है। जिसके संबंध में न्यायालय से आरोपी का पुलिस रिमांड प्राप्त कर अन्य अपराधों का पता चलने की संभावना है।

इनकी रही मुख्य भूमिका

थाना प्रभारी राम स्नेही चौहान थाना इटारसी के नेतृत्व में निरीक्षक संजय चौकसे प्रभारी कन्ट्रोल रूम नर्मदापुरम, निरीक्षक संतोष सिंह चौहान थाना प्रभारी कोतवाली, उप निरीक्षक विवेक यादव, उनि केपी गौर, सउनि संजय रघुवंशी, सउनि वीरेन्द्र शुक्ला, सउनि अनिल ठाकुर, प्रधान आरक्षक हेमंत तिवारी, भागवेन्द्र, भूपेश मिश्रा, प्रीतम बाबरिया, लोकेश जाट, सुनील, हरीश, अनिल यदुवंशी, जितेन्द्र शेषकर, जितेन्द्र नरवरे, रामप्रकाश, तुलसीराम, रविन्द्र, गजेन्द्र, हेमराज, अभिषेक एवं संदीप की टीम ने लगातार परिश्रम कर उक्त घटना का खुलासा करते हुये आरोपियों को गिरफ्तार करने एवं लूट का माल जब्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

CATEGORIES
Share This

AUTHORRohit

COMMENTS

error: Content is protected !!